News Narmadanchal
अब मशीन से होगी प्रमुख सड़कों की सफाई ठेका कंपनी पर नजर रखने स्वतंत्र इंजीनियर

अब मशीन से होगी प्रमुख सड़कों की सफाई ठेका कंपनी पर नजर रखने स्वतंत्र इंजीनियर

रायपुर. शहर के मुख्य मार्गों की सफाई अब झाड़ू के बजाय मशीन से कराई जाएगी। 85 किलोमीटर के दायरे की सड़कों को इसमें शामिल करने की योजना है, जिसमें टू लेन, फोरलेन और उससे अधिक की सड़कें समाहित होंगी। इस कार्य पर नगर निगम को हर साल 10 करोड़ 80 लाख का खर्च आएगा। 5 फीसदी वार्षिक संभावित मूल्य बढ़ोतरी मिलाकर 4 साल में 46.56 करोड़ रुपए खर्च होंगे।

महापौर एजाज ढेबर की अध्यक्षता में मंगलवार को एमआईसी की बैठक में इस आशय के प्रस्ताव को मंजूरी दी गई। साथ ही रामकी कंपनी के कार्यों पर निगरानी के लिए इंडिपेंडेट इंजीनियर नियुक्त करने संबंधी प्रस्ताव पारित किया गया। एमआईसी की बैठक में दर्जनभर प्रस्तावों को चर्चा के बाद मंजूरी दी गई।

रोड स्वीपिंग मशीन फार्मूला फेल, फिर करोड़ों की मशीन खरीदेगा निगम

शहर के मुख्य मार्गों की सफाई के लिए सुनील सोनी के कार्यकाल में करोड़ों रुपए खर्च कर महंगी रोड स्वीपिंग मशीन रायपुर सहित अन्य नगर निगमों के लिए खरीदी गईं, पर कुछ ही महीने धूल सफाई करने के बाद यह मशीन हांफ गई। सालों तक मोटर वर्कशाॅप में शोपीस बनकर खड़ी, धूल खा रही मशीन को औने-पौने दाम पर नगर निगम को बेचना पड़ा। अब दुबारा वही गलती फिर दोहराई जा रही है। महापौर एजाज ढेबर का कहना है, पूरी तरह आधुनिक तकनीक से लैस सफाई मशीन के साथ टेक्निकल पर्सन भी रहेगा। इस मशीन के आने से स्वच्छता सर्वेक्षण की रैंकिंग में सुधार होगा। छोटे-छोटे धूल के कण मुख्य मार्ग पर नहीं दिखेंगे। 

रामकी के कामकाज पर रखेंगे नजर

मेयर इन काउंसिल की बैठक मे शहर की सफाई का ठेका लेने वाली रामकी कंपनी के ठोस अपशिष्ट निष्पादन कार्य की मानिटरिंग करने नगर निगम अब स्वतंत्रत इंजीनियर की नियुक्ति करेगा। इसके लिए आमंत्रित आरएफपी में मेसर्स इन्फ्राइन एवं मेसर्स ईपीटीआरआई द्वारा दिए गए प्रस्तुतिकरण के बाद तकनीकी परीक्षण एवं वित्तीय जांच उपरांत मेसर्स ईपीटीआरआई को 5 वर्ष के लिए वर्कआर्डर देने संबंधी प्रस्ताव को मंजूरी दी गई। इस कार्य में करीब 2 करोड़ खर्च होंगे।

पूर्व पार्षदों को दी श्रद्धांजलि

एमआईसी ने पूर्व पार्षद इंदरचंद धाड़ीवाल, मनोज प्रजापति, पंकज निर्मलकर तथा पूर्व जोन कमिश्नर जीएस क्षत्री के आकस्मिक निधन पर सामूहिक मौन श्रद्धांजलि अर्पित की।

14 दुकानों को लीज पर देने का प्रस्ताव पारित

बाजार विभाग द्वारा एमआईसी में लाए गए प्रस्ताव में नगर निगम के जवाहर बाजार के प्रथम तल की 12 दुकानें, मंगलम भवन की 1, डूमरतराई की 1 दुकान, इस तरह कुल 14 दुकानों को 30 साल की लीज पर देने संबंधी प्रस्ताव पर मुहर लगी। अब यह प्रकरण सामान्य सभा की बैठक में रखा जाएगा।

सड़क नामकरण का प्रस्ताव

मंत्री मोहम्मद अकबर की अनुशंसा के अनुरूप एवं राज्य शासन के पत्र अनुसार स्वतंत्रता संग्राम सेनानी डॉ. महादेव प्रसाद पांडे की स्मृति में नालंदा परिसर जीई रोड, आमापारा चौक अथवा ब्राह्मणपारा से आयुर्वेदिक काॅलेज की ओर जाने वाले मार्ग में से किसी एक का नामकरण करने संबंधी प्रस्ताव पारित, अभिमत के लिए राज्य शासन को प्रस्ताव प्रेषित करने सर्वसम्मति से एमआईसी ने निर्णय लिया। इसी तरह नगर निगम के कर्मचारी की चिकित्सा क्षतिपूर्ति सहित अन्य अतिरिक्त प्रस्ताव पारित किए गए।

 

शहर के मुख्य मार्गों की सफाई अब झाड़ू के बजाय मशीन से कराई जाएगी। 85 किलोमीटर के दायरे की सड़कों को इसमें शामिल करने की योजना है, जिसमें टू लेन, फोरलेन और उससे अधिक की सड़कें समाहित होंगी। इस कार्य पर नगर निगम को हर साल 10 करोड़ 80 लाख का खर्च आएगा। 5 फीसदी वार्षिक संभावित मूल्य बढ़ोतरी मिलाकर 4 साल में 46.56 करोड़ रुपए खर्च होंगे।

Related Articles