News Narmadanchal
इंदौर-रायपुर की टीम ने ट्रक की प्लेट उखाड़ी, निकला साढ़े चार क्विंटल गांजा

इंदौर-रायपुर की टीम ने ट्रक की प्लेट उखाड़ी, निकला साढ़े चार क्विंटल गांजा

रायपुर. हावड़ा-मुंबई रोड स्थित मंदिरहसौद थाना क्षेत्र में डायरेक्टर ऑफ रेवेन्यू इंटेलिजेंस (डीआरआई) की इंदौर जोनल तथा रायपुर की टीम ने एक-दो अक्टूबर की दरमियानी रात बड़ी कार्रवाई की है। डीआरआई की टीम ने साढ़े चार क्विंटल गांजा जब्त किया है। गांजा तस्करी के आरोप में डीआरआई की टीम ने तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। जब्त गांजा की कीमत 90 लाख रुपए आंकी गई है। सूत्रों के मुताबिक गांजा तस्करी के आरोप में डीआरआई की टीम ने ट्रक मालिक सहित ट्रक ड्राइवर और हेल्पर को गिरफ्तार किया है।

साथ ही गांजा तस्करी में उपयोग किए जा रहे ट्रक को जब्त किया है। गांजा की खेप रायपुर के रास्ते ओडिशा ले जाने की बात सामने आई है। हालांकि गांजा तस्करी के मामले में डीआरआई के अधिकारी अधिकृत तौर पर जानकारी देने से बच रहे हैं। गांजा पकड़ने की कार्रवाई में डीआरआई के अधिकारियों द्वारा स्थानीय पुलिस से किसी तरह से मदद नहीं लेने की बात सामने आई है। इस वजह से गांजा तस्करी के बारे में पुलिस को किसी भी तरह से कोई जानकारी नहीं है।

एक माह पहले मिला था इनपुट

सूत्रों के मुताबिक डीआरआई की इंदौर जोनल को गांजा तस्करी करने का इनपुट एक महीना पहले से मिल गया था। इसके बाद डीआरआई की इन्वेस्टिगेशन टीम ने उत्तरप्रदेश से लेकर ओडिशा में जाकर गांजा तस्करी के बारे में जानकारी जुटाई। तस्करी की तारीख की जानकारी मिलने पर एक सप्ताह तक डीआरआई की टीम ने नेशनल हाईवे पर आने-जाने वाले ट्रकों पर नजर रखने के बाद गांजा तस्करी का भंडाफोड़ किया।

ट्रक डाला में खांचा बनाकर तस्करी

नेशनल हाईवे में डीआरआई की टीम ने जब ट्रक को हाथ मारकर रोका, तो ट्रक पूरी तरह खाली मिला। ट्रक और डाले की ऊंचाई में अंतर मिलने के बाद डीआरआई की टीम को शक हुआ। इसके बाद डीआरआई की टीम ने डाला के अंदर जाकर जांच की, तो डाला के अंदर की प्लेट ऊपर-नीचे मिली। इसके बाद प्लेट को उखाड़कर देखा गया, तो प्लेट के नीचे प्लास्टिक में अच्छी तरह से पैक किया हुआ गांजा मिला।

मशीन से प्रेस कर पैक किया

गांजा वजन में हल्का होता है, इस लिहाज से दो-तीन क्विंटल गांजा से ट्रक भर जाता। इसे देखते हुए गांजा तस्करों ने ट्रक में ज्यादा से ज्यादा मात्रा में गांजा तस्करी कर सकें, इस बात को ध्यान में रखते हुए गांजा को प्लास्टिक में भरने के बाद मशीन से प्रेस कर गांजा भरा था। प्लास्टिक पैकिंग को देखने के बाद मशीन से गांजा पैकेट को प्रेस करने की पुष्टि हो रही है।

एक सप्ताह पूर्व हुई थी बड़ी कार्रवाई

छत्तीसगढ़ के रास्ते बड़े पैमाने पर गांजा तस्करी हो रही है। एक सप्ताह पूर्व महासमुंद पुलिस ने कोमाखान के पास कार्रवाई करते हुए गांजा तस्करी करते दो आरोपियों को गिरफ्तार कर आठ क्विंटल गांजा जब्त किया था। तस्कर गांजा को छत्तीसगढ़, दिल्ली होते हुए राजस्थान ले जा रहे थे। इससे साबित होता है, नशे के सौदागर पुलिस तथा केंद्रीय जांच एजेंसियों को झांसा देकर छत्तीसगढ़ के रास्ते दूसरे राज्यों में बड़े पैमाने पर गांजा की तस्करी कर रहे हैं। इसी तरह माना थाना क्षेत्र में पुलिस ने कार्रवाई करते हुए गांजा जब्त कर छह लोगों को गिरफ्तार किया था। जब्त गांजे की कीमत एक करोड़ रुपए आंकी गई थी।

गांजा तस्करी के आरोप में ट्रक मालिक, ड्राइवर, हेल्पर गिरफ्तार

Related Articles