News Narmadanchal
एपीजे अब्दुल कलाम जयंती: डॉ एपीजे अब्दुल कलाम के विचार, युवाओं को देते हैं आगे बढ़ने की प्रेरणा

एपीजे अब्दुल कलाम जयंती: डॉ एपीजे अब्दुल कलाम के विचार, युवाओं को देते हैं आगे बढ़ने की प्रेरणा

अब्दुल कलाम जयंती

भारत के पूर्व राष्ट्रपति, महान वैज्ञानिक और एक अच्छे शिक्षक के रूप में लोकप्रिय डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम की 15 अक्टूबर को 89वीं जयंती है। अब्दुल कलाम की जयंती को विश्व छात्र दिवस के रूप में मनाया जाता है। अब्दुल कलाम के विचार आज भी युवाओं को मोटिवेट करते हैं। मिसाइलमैन के नाम से मशहूर एपीजे अब्दुल कलाम का जन्म 15 अक्टू्बर 1931 को तमिलनाडु के रामेश्व्रम में हुआ था। कलाम साहब का पूरा जीवन देश सेवा और मानवता को समर्पित रहा है। इस मौके पर हम आपको बताते हैं डॉ एपीजे अब्दुल कलाम के विचार जो आज भी युवाओं को आगे बढ़ने की प्रेरणा देते हैं।

अब्दुल कलाम के विचार

* महान सपने देखने वालों के महान सपने हमेशा पूरे होते हैं।

ए.पी.जे. अब्दुल कलाम

* क्या हम यह नहीं जानते कि आत्म सम्मान आत्म निर्भरता के साथ आता है ?

ए.पी.जे. अब्दुल कलाम 

* यदि हम स्वतंत्र नहीं हैं तो कोई भी हमारा आदर नहीं करेगा।

 ए.पी.जे. अब्दुल कलाम

* भारत में हम बस मौत, बीमारी, आतंकवाद और अपराध के बारे में पढ़ते हैं।

ए.पी.जे. अब्दुल कलाम

* इंसान को कठिनाइयों की आवश्यकता होती है, क्योंकि सफलता का आनंद उठाने कि लिए ये ज़रूरी हैं।

ए.पी.जे. अब्दुल कलाम

* किसी भी धर्म में किसी धर्म को बनाए रखने और बढाने के लिए दूसरों को मारना नहीं बताया गया।

ए.पी.जे. अब्दुल कलाम

* इससे पहले कि सपने सच हों आपको सपने देखने होंगे।

ए.पी.जे. अब्दुल कलाम

* इंतज़ार करने वालो को सिर्फ उतना ही मिलता है, जितना कोशिश करने वाले छोड़ देते है।

ए.पी.जे. अब्दुल कलाम

* एक अच्छी पुस्तक हज़ार दोस्तों के बराबर होती है जबकि एक अच्छा दोस्त एक लाइब्रेरी (पुस्तकालय)  के बराबर होता है।

ए.पी.जे. अब्दुल कलाम

* देश का सबसे अच्छा दिमाग, क्लास रूम की आखरी बेंचो पर मिल सकता है।ए.पी.जे. अब्दुल कलाम

मिसाइलमैन के नाम से मशहूर एपीजे अब्दुल कलाम का जन्म 15 अक्टू्बर 1931 को तमिलनाडु के रामेश्व्रम में हुआ था। कलाम साहब का पूरा जीवन देश सेवा और मानवता को समर्पित रहा है।

Related Articles