News Narmadanchal
कृषि कानून पर मुखर हुआ छत्तीसगढ़ कांग्रेस, ब्लॉक स्तर पर बूलंद की आवाज

कृषि कानून पर मुखर हुआ छत्तीसगढ़ कांग्रेस, ब्लॉक स्तर पर बूलंद की आवाज

मुंगेली। छत्तीसगढ़ में आज प्रदेश कांग्रेस कमेटी के द्वारा प्रत्येक ब्लॉक स्तर पर पदाधिकारियों के द्वारा प्रेस वार्ता आयोजित की गई, जिसमे केंद्र सरकार की कृषि बिल को किसान विरोधी बताते हुए मोदी सरकार पर छत्तीसगढ़ में होने वाली धान खरीदी में व्यवधान उत्पन्न करने का आरोप लगाया है। प्रेस वार्ता के दौरान ब्लॉक कांग्रेस कमेटी जरहागांव के अध्यक्ष रामचन्द साहू ने कहा कि राज्य सरकार ने अपने वायदे के मुताबिक पहले न सिर्फ किसानों का कर्जा माफ किया, उसके बाद धान का समर्थन मूल्य भी 25 सौ रुपये किया गया। यही वजह है कि राज्य सरकार की किसानहितैषी नीतियों को सफल होते देख अब राज्य में बीजेपी और केंद्र सरकार छत्तीसगढ़ सरकार को बेवजह बदनाम करने की कोशिश कर रही है। इसके अलावा धान खरीदी में व्यवधान उत्पन्न करने के साथ ही किसानों को बरगलाने में इनके द्वारा कोई कसर नही छोड़ी जा रही है, लेकिन छत्तीसगढ़ के किसान बीजेपी की बेवजह रोटी सेंकने वाली राजनीति से अच्छी तरह से वाकिफ़ हैं। बीजेपी के समय राज्य में 15 लाख किसान धान बेचते थे, जो अब बढ़कर 21 लाख हो गए हैं। कांग्रेस सरकार किसानों की सरकार है, यही वजह है कि इस सरकार में किसानों ने अपना पंजीयन करवाया है। अब वो किसान किसी के बहकावे में नही आने वाले हैं। वहीं केंद्र सरकार के कृषि बिल के विरोध में किसान जब महीनों से विरोध में रही है तो इसे प्रायोजित करार देने में लगी है, जो कि केंद्र के मोदी सरकार के किसान विरोधी चरित्र को उजागर करने के लिए पर्याप्त है।

ब्लॉक कांग्रेस कमेटी जरहागांव के अध्यक्ष रामचन्द साहू ने कहा कि राज्य सरकार ने अपने वायदे के मुताबिक पहले न सिर्फ किसानों का कर्जा माफ किया, उसके बाद धान का समर्थन मूल्य भी 25 सौ रुपये किया गया। यही वजह है कि राज्य सरकार की किसानहितैषी नीतियों को सफल होते देख अब राज्य में बीजेपी और केंद्र सरकार छत्तीसगढ़ सरकार को बेवजह बदनाम करने की कोशिश कर रही है। पढ़िए पूरी खबर-

Related Articles