News Narmadanchal
गुजरात: अहमदाबाद में कर्फ्यू के कारण परेशानी बढ़ी, शुभ मुहूर्त में होने वाली कई शादियां रुकीं

गुजरात: अहमदाबाद में कर्फ्यू के कारण परेशानी बढ़ी, शुभ मुहूर्त में होने वाली कई शादियां रुकीं

अकेले अहमदाबाद में, 22 से 24 नवंबर तक 1500 से अधिक विवाह समारोह होने थे

अहमदाबाद में सप्ताहांत कफ्र्यू ने लोगों की परेशानी को बढ़ा दिया है। राज्य सरकार ने दिवाली के त्योहारों पर कोई प्रतिबंध नहीं लगाया, जिसके परिणामस्वरूप कोरोना संक्रमण के मामलों में रिकॉर्ड वृद्धि हुई है और अब सप्ताहांत में कफ्र्यू लागू होने से, बाहर से अहमदाबाद आने वाले यात्रियों की स्थिति भयावह हो गई है। इसके साथ, अहमदाबाद में शुभमुहूर्त में होने वाली 1500 से अधिक शादियों को रद्द कर दिया गया है। शादी की इच्छा रखने वाले परिवारों ने पार्टी प्लॉट में भरे गए डिपोजिट वापस लेने का दबाव बनाना शुरू कर दिया है। शादी का मौसम शुरू हो गया है और परिवारों ने सरकारी दिशानिर्देशों के अनुसार शादी के हॉल बुक किए थे। ऐसे परिवार भी फंस गए हैं।

अहमदाबाद के सोला भागवत में अनेक शादी समारोह का आयोजन था वह भी शनिवार और रविवार को रद्द कर दिया गया है। जिन परिवारों ने अग्रिम राशि दी है, उनकी हालत गंभीर हो गई है। अहमदाबाद में कुछ पार्टी प्लॉट प्रबंधकों ने भी जमा राशि का भुगतान करने से इनकार कर दिया है।

अकेले अहमदाबाद में, 22 नवंबर से 24 नवंबर तक 1500 से अधिक विवाह समारोह आयोजित किए गए थे। इस शादी को रद्द करने से इवेंट मैनेजरों के साथ-साथ परिवारों को भी काफी नुकसान हुआ है। शादी नहीं हो सकती है क्योंकि दो दिनों के लिए पूरी तरह से कफ्र्यू है। इसके अलावा, अहमदाबाद महानगर पालिका ने सोमवार को रात 9 बजे से सुबह 6 बजे तक अनिश्चितकालीन कफ्र्यू लगाया है, जिसके परिणामस्वरूप नवंबर और दिसंबर की रात की शादियों को रद्द कर दिया गया है। अहमदाबाद में शादी करने के इच्छुक परिवारों को दिवाली की सजा दी जा रही है।

वहीं, विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना मामलों की संख्या में वृद्धि ठंड के बढऩे के कारण हुई है, इसलिए त्योहारों के कारण संक्रमण बढ़ गया है और अब ठंड के कारण यह बढ़ जाएगा, इसलिए इसे रोकने के लिए सभी प्रकार के उपाय आवश्यक हो गए हैं।

अकेले अहमदाबाद में, 22 से 24 नवंबर तक 1500 से अधिक विवाह समारोह होने थे अहमदाबाद में सप्ताहांत कफ्र्यू ने लोगों की परेशानी को बढ़ा दिया है। राज्य सरकार ने दिवाली के त्योहारों पर कोई प्रतिबंध नहीं लगाया, जिसके परिणामस्वरूप कोरोना संक्रमण के मामलों में रिकॉर्ड वृद्धि हुई है और अब सप्ताहांत में कफ्र्यू लागू

Related Articles