News Narmadanchal
गुजरात : जानें कोरोना से मुक्त हुए मनोजभाई ने क्या कहा

गुजरात : जानें कोरोना से मुक्त हुए मनोजभाई ने क्या कहा

जो कोरोना के भय से मुक्त हो गया वह अपने आप कोरोना से मुक्त हो जाएगा

वैश्विक महामारी कोरोना से भयभीत होने की जरुरत नहीं है। यदि आप कोरोना के भय से मुक्त हो जाते हैं, तो आप स्वत: ही कोरोना से मुक्त हो जाएंगे। यह कहना है मनोजभाई भेसदडिया का। जिन्होंने हाल ही में राजकोट सिवलि अस्पताल में मिलवी सुदृढ उपचार से कोरोना से मुक्त हुए हैं। मनोजभाई राजकोट में सिविल अस्पताल में गहन उपचार के माध्यम से कोरोना को मात देने का श्रेय राज्य सरकार को देते हैं।

गोंडल के मूल निवासी मनोजभाई बुखार और झुनझुनी होने के साथ भोजन का स्वाद एवं सुगंध नहीं मिलने पर उन्होंने नजदीक के स्वास्थ्य केन्द्र में निदान के लिए, जहां उनका रिपोर्ट पॉजिटिव आया। मनोजभाई ने कहा कि रिपोर्ट पॉजिटवि आने के बाद गोंडल के किसी भी निजी अस्पताल में भर्ती होने हमारे ोलिए संभव नहीं था। कारण कि निजी अस्पताल की फी एवं मंहगा उपचार हमें नहीं पोसाता। इस दरम्यान पीएचसी के डॉक्टर ने मुझे राजकोट के सिविल अस्पताल में भर्ती होने का सुझाव दिया। इसलिए मैं तुरंत राजकोट सिविल अस्पताल पहुंच गया। जहां पुन: जांच के बाद मुझे सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया।

उन्होंने कहा कि इस तरह की गंभीर बीमारी का उपचार कितना भी महंगा होता है, लेकिन राजकोट सिविल अस्पताल में एक रुपया लिये बगैर मेरा उपचार किया गया। इसके लिए सरकार की सराहना करनी होगी। दिन में 5-5 बार डॉक्टर मेरे स्वास्थ्य की जांच करने आते थे। साथ ही सुबह-शाम गर्म नाश्ते, भोजन, आयुर्वेदिक काढ़े और दवा से ही हम स्वस्थ हुए हैं। मैं राज्य सरकार का शुक्रगुजार हूं कि मेरे जैसे कोरोना रोगियों को इस तरह का मुफ्त इलाज दिया। इस प्रकार, गुजरात सरकार और सिविल अस्पताल में सेवारत चिकित्सकों के 24 घंटे काम करने से मनोजभाई जैसे मरीज कोरोना से मुक्त हो रहे हैं।

जो कोरोना के भय से मुक्त हो गया वह अपने आप कोरोना से मुक्त हो जाएगा वैश्विक महामारी कोरोना से भयभीत होने की जरुरत नहीं है। यदि आप कोरोना के भय से मुक्त हो जाते हैं, तो आप स्वत: ही कोरोना से मुक्त हो जाएंगे। यह कहना है मनोजभाई भेसदडिया का। जिन्होंने हाल ही में

Related Articles