News Narmadanchal
गुजरात : राज्य सरकार ने फिल्टर वाले मास्क के बारे में जनता को यह सलाह दी

गुजरात : राज्य सरकार ने फिल्टर वाले मास्क के बारे में जनता को यह सलाह दी

कोरोना के खिलाफ लड़ाई में मास्क पहनना बहुत महत्वपूर्ण

राज्य में कोरोना वायरस पॉजिटिव मामलों की संख्या लगातार बढ़ रही है। कोरोना महामारी के बीच कोरोना की दवा अभी तक नहीं मिल पाया है। ऐसे समय में कोरोना से बचने के लिए मास्क एकमात्र तरीका है। कोरोना के खिलाफ लड़ाई में मास्क पहनना बहुत महत्वपूर्ण है। राज्य में सरकार द्वारा भी लोगों को घर से बाहर निकलते समय अनिवार्य रुप से मास्क पहनें के निर्देश दिये गये हैं। बिना मास्क पहने घूमने वाले लोगों से जहां पुलिस, नगरनिगम और महानगर पालिका द्वारा जुर्माना लगाया जा रहा है। वहीं दूसरी ओर कोरोना महामारी के बीच बाजार में विभिन्न प्रकार के मास्क बेचे जा रहे हैं। फिल्टर और वाल्व वाले मास्क बाजार में उपलब्ध हैं। राज्य के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा वाल्व और फिल्टर के साथ मास्क का उपयोग नहीं करने के लिए कहा गया है। स्वास्थ्य विभाग ने राज्य के प्रत्येक विभाग को इस मामले पर लोगों के बीच जागरूकता पैदा करने का निर्देश दिया है।

राज्य के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के अतिरिक्त निदेशक ने सभी जिला स्वास्थ्य अधिकारियों को पत्र लिखकर लोगों को जागरूक करने के लिए कहा है। उन्होंने पत्र में लिखा है कि कोरोना संक्रमण से बचने के लिए हाल में कोई दवा उपलब्ध नहीं है, ऐसे में मास्क ही सबसे आसान उपलब्ध विकल्प है। हाल में जनता द्वारा उपयोग किये जा रहे विविध प्रकार के मास्क में फिल्टर वाला और वाल्व वाला मास्क का भी उपयोग किया जाता है। जो कोरोना वायरस के खिलाफ पर्याप्त सुरक्षा प्रदान नहीं करते हैं। भारत सरकार के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने भी इस तरह के मास्क का उपयोग नहीं करने के लिए दिशानिर्देश जारी किए हैं। इसलिए सुनिश्चित करें कि आपके क्षेत्र के सभी लोग वाल्व या फिल्टर वाला मास्क का उपयोग नहीं करे। इसके अलावा अपने स्तर से वाल्व या फिल्टर वाला मास्क का उपयोग नही करने के लिए सार्वजनिक जागरूकता फैलाने का प्रयास करे।

इस संदर्भ में विशेषज्ञों का कहना है कि जब कोई वन-वे वाल्व व्यक्ति श्वास लेता है तब बंद हो जाता है और जब व्यक्ति सांस बाहर निकालता है तब खुल जाता है। जिसके कारण वाल्व वाला मास्क पहनने वाला व्यक्ति सांस लेता है, तो वह जिस हवा को ग्रहण करता है, उसे फिल्टर किया जाता है, लेकिन जब वह बाहर निकलता है, तो हवा दबाव के साथ छोटे छेद से बाहर आती है और इस हवा को फिल्टर नहीं किया जाता है। इसका मतलब यह है कि अगर मास्क पहनने वाला व्यक्ति कोरोना से संक्रमित है तो वे कोरोना वायरस को हवा में फैला सकते हैं।

कोरोना के खिलाफ लड़ाई में मास्क पहनना बहुत महत्वपूर्ण राज्य में कोरोना वायरस पॉजिटिव मामलों की संख्या लगातार बढ़ रही है। कोरोना महामारी के बीच कोरोना की दवा अभी तक नहीं मिल पाया है। ऐसे समय में कोरोना से बचने के लिए मास्क एकमात्र तरीका है। कोरोना के खिलाफ लड़ाई में मास्क पहनना बहुत महत्वपूर्ण है।

Related Articles