News Narmadanchal
चीन के कर्ज में बुरी तरह से फंसे इस देश की व्यथा; पुश्तैनी गहने बेचें तो भी नहीं चुक सकता कर्ज

चीन के कर्ज में बुरी तरह से फंसे इस देश की व्यथा; पुश्तैनी गहने बेचें तो भी नहीं चुक सकता कर्ज

भारत में पड़ोसी देश मालदीव ने अपनी व्यथा व्यक्त करते हुए कहा कि उनके ऊपर चीन का इतना कर्ज हो गया है कि वह अगर अपने दादी के गहने भी बेच दे तो भी वह कर्ज पूरा नहीं कर सकते। चीन के बेल्ट एंड प्रोजेक्ट के कारण मालदीव चीन के कर्ज तले दबा हुआ है। हालत इतनी खराब है कि मालदीव के कुल जीडीपी के 53 प्रतिशत तो मात्र कर्ज भरने में ही चले जाते है।

मालदीव के सांसद नशीद ने ट्वीट कर के बताया कि वह सभी संसद में साल 2020 – 21 के बजट के बारे में चर्चा कर रहे है। जिसमे सरकार की आय का कुल 53 प्रतिशत तो उनके कर्ज भरने में ही चली जा रही है। इन सब में भी 80 प्रतिशत रकम तो मात्र चीन को देनी पड़ रही है। सांसद का कहना है कि अगर वह अपने दादी के गहने भी बेच दे तो भी चीन के कर्ज को पूरा नहीं कर सकते।

मालदीव में साल 2013 में चीन के समर्थक अब्दुल्ला यामीन की सरकार थी। उस वक्त देश में विभिन्न योजनाओं के नाम पर मालदीव ने चीन से बड़ी लोन ली थी। जो की वर्तमान सरकार के लिए एक बड़ी तकलीफ़ बन गई है।

चीन बना रहा है पूरे विश्व को कर्जदार

अपने प्रोजेक्ट बेल्ट एंड रोड प्रोजेक्ट के जरिए चीन पूरे विश्व के देशों को अपने कर्ज तले दबाते जा रहा है। श्रीलंका के बाद अब मालदीव भी चीन के कर्ज तले दबा हुआ है। मालदीव सरकार के अनुसार चीन का मालदीव पर 3.1 अरब का कर्ज है वह भी तब जब मालदीव की पूरी अर्थव्यवस्था ही 5 अरब डॉलर की है। ऐसे में मालदीव सरकार को दिवाला निकलने का डर सता रहा है।

भारत में पड़ोसी देश मालदीव ने अपनी व्यथा व्यक्त करते हुए कहा कि उनके ऊपर चीन का इतना कर्ज हो गया है कि वह अगर अपने दादी के गहने भी बेच दे तो भी वह कर्ज पूरा नहीं कर सकते। चीन के बेल्ट एंड प्रोजेक्ट के कारण मालदीव चीन के कर्ज तले दबा हुआ है।

Related Articles