News Narmadanchal

छह अस्थाई केन्द्रों में से चार रद, अब जिले में छह मंडियों सहित आठ स्थानों पर होगी बाजरा खरीद

हरिभूमि न्यूज :नारनौल

जिला महेंद्रगढ़ में समर्थन मूल्य पर बाजरा खरीदने के लिए दो दिन पहले बनाए 6 अस्थाई केन्द्रों में से 4 को रद कर दिया गया है। जिसमें मार्केट कमेटी (Market committee) अटेली के अधीन बनाए गए बाछौद व बोचडि़या तथा कनीना मार्केट कमेटी के अधीन बनाए गए करीरा व धनौंदा अस्थाई केन्द्र शामिल है।

अब जिला में 1 अक्टूबर से 4 अस्थाई केन्द्र रद्द करने के बाद 6 मंडियों व 2 अस्थाई केन्द्रों सहित 8 स्थानों पर हैफेड की ओर से समर्थन मूल्य पर बाजरे खरीद की जाएगी। जिसमें नारनौल अनाज मंडी, नांगल चौधरी अनाज मंडी, अटेली अनाज मंडी, कनीना अनाज मंडी, महेंद्रगढ़ अनाज मंडी व सतनाली अनाज मंडी के अलावा पाली व आकोदा अस्थाई केन्द्र शामिल है।

बता दे कि प्रदेश के साथ ही जिला महेंद्रगढ़ (Mahendragarh) में बाजरा की समर्थन मूल्य पर खरीद 1 अक्टूबर से की जाएगी। सबसे पहले बाजरा खरीद के लिए निदेशालय खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग की ओर से 14 सितंबर को जारी पत्र जिला में खरीद के लिए 6 केन्द्र बनाए गए थे। जिसमें नारनौल की नई अनाज मंडी, महेंद्रगढ़ अनाज मंडी, कनीना अनाज मंडी, अटेली अनाज मंडी, नांगल चौधरी व सतनाली अनाज मंडी सहित 6 मंडी शामिल थी।

परंतु इस संबंध में 24 सितंबर को निदेशालय खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग ने एक बार फिर पत्र जारी करके बाजरा खरीद केन्द्रों की संख्या 6 से बढ़ाकर 12 कर दी थी। जिसमें पाली, धनौंदा, बाछौद, बोचडि़या, करीरा व आकोदा अस्थाई बाजरा खरीद केन्द्र शामिल थे। परंतु अब चीफ एडमिनिस्टे्रटर एचएसएएम बोर्ड पंचकूला की ओर से जारी किए गए पत्र में जिला महेंद्रगढ़ में बनाए गए पाली, धनौंदा, बाछौद, बोचडि़या, करीरा व आकोदा अस्थाई बाजरा खरीद केन्द्रों में से बाछौद, बोचडि़या, करीरा व धनौंदा अस्थाई केन्द्र रद किए गए है।

खरीद शुरू होने में मात्र तीन दिन शेष, नियम व शर्तें अभी साफ नहीं

प्रदेश सरकार के आदेशानुसार समर्थन मूल्य 2150 रुपये प्रति क्विंटल पर बाजरा खरीद 1 अक्टूबर से शुरू होगी। जिसमें अब मात्र तीन दिन शेष रह गए है। परंतु अभी तक सरकार व खरीद एजेंसी की ओर से नियम व शर्तंे साफ नहीं की है।

ऐसे में अभी भी संशय बना हुआ है कि मंडी में किसानों को गांव वाइज शेड्यूल जारी करके बुलाया जाएगा या फिर गांवों के थोड़े-थोड़े किसानों को मोबाइल पर सूचना देकर मंडी में बाजरा लेकर आने को कहा जाएगा और प्रति एकड़ कितना व एक दिन में एक किसान का अधिकतम कितना बाजरा खरीदा जाएगा। अगर बात करे गत वर्ष की तो किसानों की सुविधा के लिए पिछले वर्ष मंडियों में एक किसान से एक बार में आठ क्विंटल प्रति एकड़ के हिसाब से 40 क्विंटल तक बाजरे की खरीद की गई थी। मंडी में जिस गांव का शेड्यूल होता था उसी गांव के किसानों की फसल खरीदी जाती थी। परंतु अबकी बार कोरोना महामारी के चलते शेड्यूल में बदलाव की संभावना है।

1 अक्टूबर से 4 अस्थाई केन्द्र रद्द करने के बाद 6 मंडियों व 2 अस्थाई केन्द्रों सहित 8 स्थानों पर हैफेड (Hafed) की ओर से समर्थन मूल्य पर बाजरे खरीद की जाएगी। जिसमें नारनौल अनाज मंडी, नांगल चौधरी अनाज मंडी, अटेली अनाज मंडी, कनीना अनाज मंडी, महेंद्रगढ़ अनाज मंडी व सतनाली अनाज मंडी के अलावा पाली व आकोदा अस्थाई केन्द्र शामिल है।

Related Articles