News Narmadanchal

जब सिक्के चलन में हैं तो स्वीकार तो करने पड़ेंगे, जानें सिक्कों से बिल भुगतान का रोचक किस्सा

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की ओर से इन दिनों प्रचलन में एक दो और 5 रुपए के सिक्कों के साथ 10 20 50 और 100 के नोट रखी गई हैं। लेकिन गत रोज जो घटना हुई उसके बाद लोगों को सोचने के लिए मजबूर होना पड़ेगा।

बात ऐसी है कि राजकोट के मंदिर में पूजा करने वाले पुजारी अपने घर का टैक्स भरने के लिए 2700 रूपए के सिक्के महानगरपालिका के कार्यालय पर लेकर गए थे। वहां पर महानगर पालिका के कर्मचारी ने बिल के तौर पर 2700 रूपए के सिक्के लेने से इनकार कर दिया। इस पर पुजारी ने कांग्रेस के एक कर्मचारी का संपर्क किया तो कर्मचारी ने टैक्स डिपार्टमेंट के बड़े अधिकारियों को इसकी जानकारी दी।

इसके बाद उनके निर्देश के पश्चात टैक्स वसूलने वाले अधिकारी ने 1700 सिक्के 2700 के तौर पर स्वीकार कर लिया। बताया जा रहा है कि राजकोट के कोठारिया मेन रोड पर हुडको पुलिस स्टेशन के पीछे मारुति नंदन मंदिर में पूजा करने वाले को पुजारी हेमेंद्र भाई को इस तरह का अनुभव हुआ था। उनके मंदिर में लोग दान के तौर पर एक दो और 5 रूपए चढ़ा कर जाते हैं। इसके चलते उनके पास टैक्स भरने के लिए सिक्के मौजूद थे, जिसे लेकर वह मनपा कार्यालय में गए थे, लेकिन टैक्स लेने वाले ने उसे स्वीकार करने से इंकार कर दिया था।

इसके पश्चात उन्होंने कांग्रेस कार्यालय में एक नेता विरल भट्ट का संपर्क किया। फिलहाल सिक्के लेने के बाद मामला सुलझ गया है, लेकिन गौर करने वाली बात यह है कि यदि मंदिर के पुजारी कोई शिकायत नहीं करते तो इस तरह उनका टैक्स भी नहीं लिया जाता और मनपा टैक्स देरी से भरने वालों से ब्याज लेती है। दूसरी ओर सिक्के भी नहीं स्वीकार कर रही है। ऐसे में हर इंसान को जरूरी तो नहीं है कि नोट लेकर ही कार्यालय में टैक्स भरने जाए, इस पर प्रशासन को ध्यान देना चाहिए।

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की ओर से इन दिनों प्रचलन में एक दो और 5 रुपए के सिक्कों के साथ 10 20 50 और 100 के नोट रखी गई हैं। लेकिन गत रोज जो घटना हुई उसके बाद लोगों को सोचने के लिए मजबूर होना पड़ेगा। बात ऐसी है कि राजकोट के मंदिर में पूजा

Related Articles