News Narmadanchal
जलाराम जयंति पर वीरपुर में 239 दिन के बाद फिर से खुलेगा अन्नक्षेत्र

जलाराम जयंति पर वीरपुर में 239 दिन के बाद फिर से खुलेगा अन्नक्षेत्र

यात्रियों को सोशल डिस्टेंस के साथ करने दिए जाएगा दर्शन

सौराष्ट्र के संत पूज्य जलाराम बापू की जन्मभूमि और कर्म भूमि वीरपुर में कोरोना के दौरान बंद किया गया अन्नक्षेत्र 239 दिनों के बाद नए साल से फिर से दर्शनार्थियों के लिए शुरू किया गया है। मंदिर में टोकन के साथ दर्शनार्थियों को प्रवेश करने दिया जाएगा और कोरोना की गाइडलाइन के पालन के साथ ही भक्तों को प्रसाद भी दिया जाएगा।

टुकडो त्यां हरि ढुकडो की भावना के साथ वीरपुर में बीते 200 साल से सदाव्रत चल रहा है। यह सदाव्रत गुजरात में छप्पनिया अकाल के समय भी बंद नहीं हुआ था। लॉकडाउन घोषित हुआ तब से दर्शनार्थियों के लिए यह अन्न क्षेत्र बंद कर दिया गया था लेकिन मंदिर में आश्रित भिक्षुक,दिव्यांग तथा पर प्रांतीय श्रमिकों के लिए अन्नक्षेत्र चालू था लेकिन मंदिर के स्थान पर लोगों के घरों जाकर भोजन दिया जाता था।

मतलब कि क्षेत्र एक दिन भी बंद नहीं रहा। जलाराम बापू की जन्म जयंती कल होगी ऐसे में देश-विदेश से आने वाले दर्शनार्थियों के लिए मंदिर में बहुत अच्छा इंतजाम किया गया है।

कोरोनावायरस तेजी से बढ रहा है। इसलिए मंदिर में आने जाने वाले लोगों से अपील की जा रही है कि मंदिर में मास्क पहनकर आए तथा वहां सोशल डिस्टेंस बना रहे। मंदिर में भी इस तरह की व्यवस्था की गई है। मंदिर में दर्शन के लिए आने वाले लोगों को मास्क अनिवार्य पहनना पड़ेगा और कोरोना की गाइडलाइन का पालन भी अनिवार्य कर दिया गया है।

यात्रियों को सोशल डिस्टेंस के साथ करने दिए जाएगा दर्शन सौराष्ट्र के संत पूज्य जलाराम बापू की जन्मभूमि और कर्म भूमि वीरपुर में कोरोना के दौरान बंद किया गया अन्नक्षेत्र 239 दिनों के बाद नए साल से फिर से दर्शनार्थियों के लिए शुरू किया गया है। मंदिर में टोकन के साथ दर्शनार्थियों को प्रवेश करने

Related Articles