News Narmadanchal
जानिए किसने दिए गुरु की 500 रुपए की मदद के बदले में अपने 30 लाख रुपए के शेयर

जानिए किसने दिए गुरु की 500 रुपए की मदद के बदले में अपने 30 लाख रुपए के शेयर

आपने अक्सर सुना होगा कि जिसने आपको मुश्किल समय में मदद की हो, उसे कभी भी नहीं भूलना चाहिए। इसी बात का उदाहरण दिया है आईडीएफसी फस्र्ट बैंक के एमडी और सीईओ वैद्यनाथन ने।

वैद्यनाथ अपने दयालु स्वभाव के लिए जाने जाते हैं। वह हमेशा लोगों की मदद करते रहते हैं। इस बार वैद्यनाथन ने अपने गुरु के सम्मान में, उन्होंने अपने स्कूल शिक्षक गुरदयाल स्वरूप सैनी को 30 लाख रुपये के शेयर हस्तांतरित कर दिए।

बैंक द्वारा जारी किए गए एक बयान के अनुसार, बचपन में एक बार उनके गुरु ने वैद्यनाथन ने उनकी मदद की थी। इसके बदले उन्होंने अपने गुरु की मदद के बदले में उन्हें यह शेयर प्रदान किए थे।

बैंक द्वारा दायर एक विनियामक फाइलिंग में, सीईओ ने स्पष्ट किया कि कंपनी अधिनियम के तहत उनके गुरु सैनी किसी भी तरह से संबंधित पार्टी नहीं है। इसके अलावा शेयर के स्थानांतरण के लिए जो भी कर होंगे वह भी वैद्यनाथन खुद ही भरपाई करेंगे। वैद्यनाथन ने आईडीएफसी फस्र्ट बैंक के 1 लाख इक्विटी शेयरों को अपने गुरु सैनी को स्थानांतरित कर दिया है।

30 सालों से ढूंढ़ रहे थे खुद की मदद करने वाले शिक्षक को

सूत्रों के मुताबिक, वैद्यनाथन बिड़ला इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में दाखिले के लिए रांची जाना चाहते थे। वैद्यनाथन के पास उस समय पैसा नहीं था। न ही वे उस समय अपने परिवार के संपर्क में थे। उस समय, एक गणित शिक्षक, गुरुदयाल स्वरूप सैनी ने वैद्यनाथन को 500 रुपए की मदद की थी। खुद को मदद करने वाले इस शिक्षक को वैद्यनाथन पिछले 30 वर्षों से खोज रहे थे। कुछ साल पहले वह वैद्यनाथन को आगरा में मिले थे।

वैद्यनाथ का जन्म चेन्नई में हुआ था। उन्होंने देश के विभिन्न शहरों के केन्द्रीय विद्यालयों में अध्ययन किया है। केंद्रीय विद्यालय पठानकोट में पढ़ाई के दौरान, वह शिक्षक सैनी से मिले। वैद्यनाथन ने कैपिटल फस्र्ट नाम से एनबीएफसी की स्थापना की। दिसंबर, 2018 में कैपिटल फस्ट्र का आईडीएफसी बैंक में विलय कर दिया गया। इस विलय के बाद आईडीएफसी फर्स्ट बैंक अस्तित्व में आया।

पहले भी कर चुके हैं अपने शेयरों का दान

विशेष रूप से, यह पहली बार नहीं है जब वैद्यनाथन ने अपने शेयर किसी को स्थानांतरित किए हों। इससे पहले 2018 में, कैपिटल फर्स्ट के अध्यक्ष के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान, वैद्यनाथ ने अपने दो ड्राइवरों, तीन नौकरानियों, कुछ सहकर्मियों और परिवार के सदस्यों को 200 मिलियन रुपये के 4.30 लाख शेयर उपहार में दिए थे।

आपने अक्सर सुना होगा कि जिसने आपको मुश्किल समय में मदद की हो, उसे कभी भी नहीं भूलना चाहिए। इसी बात का उदाहरण दिया है आईडीएफसी फस्र्ट बैंक के एमडी और सीईओ वैद्यनाथन ने। वैद्यनाथ अपने दयालु स्वभाव के लिए जाने जाते हैं। वह हमेशा लोगों की मदद करते रहते हैं। इस बार वैद्यनाथन ने

Related Articles