News Narmadanchal

जुआरी-सटोरियों ने भरी सरकारी तिजोरी, चार माह में एक करोड़ जब्त

रायपुर. कोरोना संकटकाल में छाई मंदी ने जहां हर एक शख्स को मायूस किया, वहीं फड़बाजों के धंधे से सरकारी तिजोरी जरूर भरने लगी है। सटोरियों और जुआरियों के पकड़े जाने से रिकार्ड रकम की जब्ती से पुलिस भी हैरान है। रायपुर में पिछले कुछ महीने के अंदर पकड़े गए जुआरियों और सटोरियों का हिसाब ही कुछ ऐसा है, जिसमें पुलिस ने 1 करोड़ रुपये से ज्यादा की जब्ती बनाई है।

जिले में 748 जुआरी पकड़े गए हैं, जिनके पास से ही 80 लाख रुपये से ज्यादा की बरामदगी बताई गई है। इधर 101 सटोरियों के पकड़े जाने पर इनके पास से भी 20 लाख रुपये से ज्यादा की रकम मिली है। फड़बाजों के अड्डे में तलाशी के दौरान बड़ी-बड़ी रकम की बरामदगी बहुत चौंकाने वाली रही है। कोरोना की वजह से बाजार में मंदी देखे जाने के बाद फड़बाजों के पास मोटी रकम मिली है।

पुलिस की जब्ती कार्रवाई के बाद रकम कोर्ट की ट्रेजरी में जमा कराई गई है। छह से आठ महीने के भीतर जुआ-सट्टा कारोबार में सख्ती की वजह से बरामदगी का नया रिकार्ड रायपुर जिले में दर्ज किया गया है। सरकारी तिजाेरी इस बार दिवाली के पहले ही भरने को तैयार है, जिसे जुआरियों का सीजन भी कहा जाता है। बड़े जुआरियों के पास पकड़ी गए रकम वापसी के लिए जुआ एक्ट में प्रावधान जरूर है, लेकिन जुआरी रकम लेने में पीछे ही हैं।

ताश के दीवाने सबसे ज्यादा

सट्टा-जुआ एक्ट के तहत चलाए गए अभियान में सबसे ज्यादा 52 परी के दीवाने पुलिस के हत्थे चढ़े हैं। शहर और ग्रामीण क्षेत्र के थानों में फड़बाजों की धरपकड़ हुई है। आठ महीने के अंदर आउटर से ज्यादा शहरी इलाके में अड्डा बनाकर जुआरी पुलिस के हत्थे चढ़े हैं। माना, आरंग, धरसींवा, बीरगांव और उरकुरा जैसे इलाके जुआरियों का सेफजोन माना जाता रहा है, लेकिन इस बार शहर के अंदर बड़े होटलों, बड़े कांप्लेक्सों में पुलिस ने दबिश देकर जुआरियों को पकड़ा है।

त्योहार में बड़े फड़बाज हुए गायब

दिवाली के सीजन में पुलिस ने तगड़ी कार्रवाई के लिए फड़बाजों का चिट्ठा तैयार किया है। इसमें कई बड़े नाम शामिल हैं, जिनके ठिकानों पर बड़ी फड़ के बैठने की सूचनाएं मिली हैं। लॉकडाउन खुलने के बाद कहा यह भी जा रहा है कि बड़े सटोरिए और जुआरी इस बार दिवाली में कमाई के लिए शहर के बाहर ठिकाना बनाने में लगे हैं। फड़बाजों की जासूसी के लिए पुलिस ने मुखबिर सक्रिय किए हैं।

जुआ पर सख्त अभियान

त्योहारी सीजन में फड़ जमाने वाले जुआरियों पर सख्त कार्रवाई होगी। लॉकडाउन होने के बाद से चल रही कार्रवाई में और तेजी लाई जाएगी। दीपावली के मौके पर पुराने जुआरियों के ठिकानों पर भी नजरें हैं।

– तारकेश्वर पटेल, एएसपी ग्रामीण

कोरोना संकटकाल में छाई मंदी ने जहां हर एक शख्स को मायूस किया, वहीं फड़बाजों के धंधे से सरकारी तिजोरी जरूर भरने लगी है। सटोरियों और जुआरियों के पकड़े जाने से रिकार्ड रकम की जब्ती से पुलिस भी हैरान है। रायपुर में पिछले कुछ महीने के अंदर पकड़े गए जुआरियों और सटोरियों का हिसाब ही कुछ ऐसा है, जिसमें पुलिस ने 1 करोड़ रुपये से ज्यादा की जब्ती बनाई है।

Related Articles