News Narmadanchal

ड्रग्स कारोबार रायपुर तक ही सीमित नहीं, कई और चेहरे आएंगे सामने

रायपुर. राजधानी में पहली बार कोकीन मिलने के बाद पुलिस अलर्ट हो गई है। तह तक पहुंचने के लिए मामले की जांच कोतवाली पुलिस के साथ साइबर सेल करेगी। साथ ही श्रेयांस झाबक तथा विकास बंछोर से जब्त मोबाइल से कोकीन खरीदने वालों के तार खंगालने में पुलिस और साइबर सेल जुटी हुई है। प्रारंभिक जांच में पुलिस को जो जानकारी मिली है, उसके मुताबिक राजधानी के रास्ते कोकीन की सप्लाई राजनांदगांव सहित रायपुर से सटे जिलों में होती थी।

कोतवाली सीएसपी देवचरण पटेल के मुताबिक कोकीन खरीदने वालों के संबंध में जो जानकारी मिली है, उसमें कई धनाढ्य परिवार से जुड़े लोगों के नाम सामने आए हैं। जिनके नाम सामने आए हैं, वे सभ्रांत परिवार से जुड़े हुए लोग हैं। पूछताछ में श्रेयांस ने जिन लोगों को ड्रग बेचना बताया है, उसकी पुष्टि की जा रही है। ड्रग खरीदने की पुष्टि होने के बाद ड्रग खरीदने वालों की गिरफ्तारी करने की बात कही है।

ड्रग पैडलरों की जानकारी जुटा रही पुलिस

श्रेयांस मुंबई के जिन ड्रग पैडलरों के माध्यम से कोकीन खरीदता था, उनके मोबाइल नंबरों की जानकारी पुलिस को मिल गई है। मोबाइल नंबर के आधार पर साइबर सेल ड्रग पैडलरों के बारे में जानकारी एकत्रित कर रही है। ड्रग पैडलरों की जानकारी एकत्रित करने के बाद ड्रग पैडलरों को पकड़ने पुलिस की टीम मुंबई रवाना होगी। श्रेयांस, विकास के पकड़े जाने के बाद कई ड्रग पैडलरों ने अपना मोबाइल बंद कर दिया है।

ऐसे फंसा ड्रग पैडलरों के जाल में

श्रेयांस के संबंध में पुलिस को जो जानकारी मिली है, उसके मुताबिक वह मुंबई में एमबीए की पढ़ाई करने के लिए गया था। वहां वह अपने कालेज के साथियों के साथ ड्रग पैडलरों के संपर्क में आया। ड्रग पैडलरों ने श्रेयांस को शुरुआती दिनों में सस्ती कीमत पर कोकीन उपलब्ध कराया। इसके बाद कोकीन की जरूरत पूरा करने ड्रग पैडलरों ने श्रेयांस को ककीन बेचने दबाव बनाकर सफेद जहर के धंधे में धकेला।

फेक पर्चेस में फंसा श्रेयांस

श्रेयांस और विकास द्वारा कोकीन बेचे जाने की जानकारी पुलिस को पहले ही मिल चुकी थी। इसके बाद दोनों को पकड़ने के लिए पुलिस ने मुखबिर की मदद ली। श्रेयांस और विकास के पास कोकीन होने की पक्की जानकारी मिलने के बाद एक पुलिसकर्मी ने श्रेयांस से संपर्क कर कोकीन खरीदने का सौदा कर ट्रेस किया। इसके बाद पुलिस ने उसके दूसरे साथी को दबोचा।

ड्रग बेचने वालों में कई और नाम शामिल

सीएसपी के मुताबिक सफेद जहर के इस काले धंधे में पकड़े गए लोगों के साथ कई और लोगों के जुड़े होने की बात सामने आई है। सीएसपी ने कहा है कि जिन लोगों के ड्रग बेचने के संबंध में जानकारी मिली है, वो ड्रग अपने उपयोग के लिए खरीदते थे या बेचने की लिए, इस बात की पुष्टि होना बाकी है। पुष्टि होने के बाद जिन लोगों के नाम सामने आए हैं, उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

नियमित से लेकर सप्ताहिक ग्राहक

कोतवाली सीएसपी के मुताबिक श्रेयांस के पास कोकीन खरीदने वाले जो ग्राहक थे, उसमें कई ग्राहक ऐसे थे, जो श्रेयांस से नियमित कोकीन खरीदते थे। साथ ही कई ग्राहक ऐसे थे, जो दो-तीन दिन की आड़ में या सप्ताह में कोकीन खरीदने के लिए आते थे। पुलिस अब कोकीन के चेन के बारे में जानकारी जुटाने की बात कह रही है।

राजधानी में पहली बार कोकीन मिलने के बाद पुलिस अलर्ट हो गई है। तह तक पहुंचने के लिए मामले की जांच कोतवाली पुलिस के साथ साइबर सेल करेगी। साथ ही श्रेयांस झाबक तथा विकास बंछोर से जब्त मोबाइल से कोकीन खरीदने वालों के तार खंगालने में पुलिस और साइबर सेल जुटी हुई है। प्रारंभिक जांच में पुलिस को जो जानकारी मिली है, उसके मुताबिक राजधानी के रास्ते कोकीन की सप्लाई राजनांदगांव सहित रायपुर से सटे जिलों में होती थी।

Related Articles