News Narmadanchal
तीन दिन से खेतों में खाक छान रही वन्य प्राणी विभाग की टीमें, नहीं लगा जंगली जानवर का सुराग

तीन दिन से खेतों में खाक छान रही वन्य प्राणी विभाग की टीमें, नहीं लगा जंगली जानवर का सुराग

 दूरबीन की सहायता से खेतों में जंगली जानवारों को ढुंढ रहे वन्य प्राणी विभाग के कर्मचारी।

 दूरबीन की सहायता से खेतों में जंगली जानवारों को ढुंढ रहे वन्य प्राणी विभाग के कर्मचारी।

हरिभूमि न्यूज. जींद। गांव ईगराह व बीबीपुर की सीमा पर देर शाम को तीन दिन पहले दिखाई दिए संदिग्ध जंगली जानवर (तेंदूए) के चलते आसपास के गांवों में दहशत का माहौल बना हुआ है।

वहीं वन्य प्राणी तथा फोरेस्ट विभाग (Forest department) की टीम भी पिछले तीन दिनों से लगातार इलाके की खाक छान रही है लेकिन तेंदूए का कोई सुराग नहीं लगा। मौके पर मिले फूट प्रिंट का भी मिलान सही नहीं हो रहा है। फिर भी वन्य प्राणी विभाग की टीम लगातार इलाके पर नजर रखे हुए है।

रात को ग्रामीणों ने बाहर निकलना किया बंद

गांव ईगराह निवासी शमशेर तथा उसके बेटे विकास ने 13 नवम्बर देर शाम को गांव बीबीपुर की सीमा से स्टे अपने खेत में जंगली जानवर देखा था जिसे तेंदूए माना जा रहा है। दोनों बाप-बेटे ने इसकी सूचना पुलिस तथा ग्रामीणों को दी। रात को ही अमला खेतों में पहुंचा और व्यापक स्तर पर तलाशी अभियान चलाया।

वन्य प्राणी विभाग की टीम ने मौके से संदिग्ध जंगली जानवर के फूट प्रिंट लिए और मिलान के लिए भेजा। 14 नवम्बर को भी टीम ने इलाके का जायजा लिया लेकिन जंगली जानवर कहीं पर दिखाई नहीं दिया। तेंदूए के दिखाई देने के बार आसपास के गांवों में दहशत का माहौल बना हुआ है, यहां तक की रात के समय ग्रामीणों ने बाहर निकलना बंद कर दिया है।

फूट प्रिंट में संदेह, नहीं मिला ठोस सबूत

पिछले तीन दिनों से वन्य प्राणी तथा वन विभाग की टीमें लगातार खेतों पर नजर बनाए हुए हैं। मौके से जो फूट प्रिंट उठाए गए वे तेंदूए या दूसरे जंगली जानवर से नहीं मिलते। फूट प्रिंट आकार में छोटे हैं, इसके अलावा आसपास के इलाके में कोई मृत जानवर या पशु पाया गया, जिससे संदेह हो सके कि वह जंगली जानवर का शिकार हुआ है।

काफी बड़े इलाके में संयुक्त टीम द्वारा अभियान चलाया गया, उस दौरान भी कहीं पर कोई ठोस सबूत नहीं पाया गया। फिर भी वन्य प्राणी तथा वन विभाग की टीमे लगातार इलाके पर नजर बनाए हुए है।

वहीं वन्य प्राणी तथा फोरेस्ट विभाग (Forest department) की टीम भी पिछले तीन दिनों से लगातार इलाके की खाक छान रही है लेकिन तेंदूए का कोई सुराग नहीं लगा। मौके पर मिले फूट प्रिंट का भी मिलान सही नहीं हो रहा है।

Related Articles