News Narmadanchal
दुनिया का वो पहला आदमी जिसने दी थी एड्स को मात, कैंसर के सामने हार गया

दुनिया का वो पहला आदमी जिसने दी थी एड्स को मात, कैंसर के सामने हार गया

एचआईवी एड्स को मात देनेवाला शख्स आज कैंसर से हार गया। जब किसी की मौत आनी होती है तो अधिकतर बीमारियां उन पर हावी हो जाती हैं।

एचआईवी संक्रमित और उसके बाद स्वस्थ होकर इतिहास रचनेवाले विश्व का प्रथम पुरुष टिमोथी रे ब्राउन आज 54 वर्ष की उम्र में निधन हुआ। कैलिफोर्निया के पाम स्प्रींग में स्थित अपने मकान में ही उनकी मौत हुई। उनकी मौत का कारण कैंसर की वापसी बताई जा रही है। वर्ष 2007 में टिमोथी ने बोन मैरो और स्टेम सेल प्रत्यार्पित किया था। ऐसा लग रहा था कि इसके कारण एड्स फैलानेवाले ल्युकेमिया और एचआईवी मर गए थे।

टिमोथी की ऐतिहासिक उपचार और स्वस्थ करनेवाले टीम के नेता बर्लिन के डॉक्टर गेरो ह्युटर ने कहा कि उनके निधन से देश को क्षति हुई है।

वर्तमान में जर्मनी में स्टेम सेल कंपनी के डायरेक्टर पद पर कार्यरत ह्युटर ने कहा कि यह बहुत दु:खद बात है कि टिमोथी को फिर कैंसर हुआ और उसकी जान बच गई। ऐसा लगता था कि अब वे एचआईवी मुक्त हैं।

सफल उपचार के बाद एक एड्स कॉन्फ्रेंस में बोलते हुए ब्राउन को मदद करनेवाले इन्टरनेशनल एड्स सोसायटी द्वारा एक बयान जारी कर उनकी मौत के संबंध में शोक व्यक्त करके कहा गया कि ब्राउन और ह्युटर ने एड्स के उपचार में रिकॉर्ड बनाया था।

 

एचआईवी एड्स को मात देनेवाला शख्स आज कैंसर से हार गया। जब किसी की मौत आनी होती है तो अधिकतर बीमारियां उन पर हावी हो जाती हैं। एचआईवी संक्रमित और उसके बाद स्वस्थ होकर इतिहास रचनेवाले विश्व का प्रथम पुरुष टिमोथी रे ब्राउन आज 54 वर्ष की उम्र में निधन हुआ। कैलिफोर्निया के पाम स्प्रींग

Related Articles