News Narmadanchal

नेपाल बोला, चीन से हमारा रिश्ता नहीं तोड़ सकता भारत

नेपाल बोला, चीन से हमारा रिश्ता नहीं तोड़ सकता भारतनेपाल बोला, चीन से हमारा रिश्ता नहीं तोड़ सकता भारत

नेपाल और भारत के बीच के रिश्ते में तनाव उत्पन्न होता जा रहा है। वहीं ऐसा माना जा रहा है कि चीन और नेपाल की दोस्ती भारत के लिए खतरनाक साबित हो सकती है। इसी बीच चीन में नेपाल के राजदूत महेंद्र बहादुर पांडे ने चीनी मीडिया में दिए अपने इंटरव्यू में चीन के साथ अपने रिश्ते पर खुलकर बात की है। उन्होंने कहा है कि चीन के साथ उनका रिश्ता अटूट है। इसे भारत चाह कर भी तोड़ नहीं सकता।

चीन नेपाल का अच्छा दोस्त

महेंद्र पांडे ने कहा कि चीन नेपाल का पड़ोसी ही नहीं, बल्कि अच्छा दोस्त भी है। हमारे बीच कई समझौते हुए हैं। पिछले साल चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने नेपाल दौरे के दौरान कई समझौते किए, वहीं नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने भी चीन दौरे के दौरान कई समझौते किए हैं। नेपाल के नए राजदूत होने के नाते मेरा फर्ज है कि मैं उन समझौतों पर जल्द से जल्द काम शुरू करवा सकूं। उन्होंने कहा कि ये समझौते प्रोजेक्ट शिक्षा, स्वास्थ्य, इन्फ्रास्ट्रक्चर और पर्यावरण विषयों पर आधारित हैं।

चीन और नेपाल की दोस्ती खतरनाक

चीन और नेपाल की दोस्ती पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि हम किसी भी शक्ति की तरफ झुके हुए नहीं हैं। भारतीय मीडिया गुमराह है, इसलिए फर्जी खबरें फैलाता रहता है। चीन और भारत दोनों को एक-दूसरे से डरना नहीं चाहिए, बल्कि एक-दूसरे से बात करके मदद का हाथ बढ़ाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि चीन से हारने के बाद 1962 में भारतीय सेना अस्थाई रूप से नेपाल की जमीन पर थी, जिसे बाद में वो अपनी जमीन बताने लगे। लेकिन हम भारत के साथ इस मुद्दे पर भी बात कर रहे हैं। उन्होंने आगे कहा कि भारत पहले इस मुद्दे पर बात करने के लिए तैयार नहीं था, लेकिन अब भारत भी इस मुद्दे पर बात करने के लिए तैयार है।

उन्होंने कहा कि भारत में दावे किए जा रहे हैं कि चीन और नेपाल के रिश्ते में समस्याएं आई है। लेकिन मैं ये बताना चाहूंगा कि चीन और नेपाल का रिश्ता अटूट है। इसे चाहकर भी तोड़ा नहीं जा सकता।

चीन में नेपाल के राजदूत महेंद्र बहादुर पांडे ने चीनी मीडिया में दिए अपने इंटरव्यू में चीन के साथ अपने रिश्ते पर खुलकर बात की है। उन्होंने कहा है कि चीन के साथ उनका रिश्ता अटूट है। इसे भारत चाह कर भी तोड़ नहीं सकता।

Related Articles