News Narmadanchal
प्रदेशवासियों के लिए सीएम का संदेश, अभी भी कोविड बन रहा चुनौती, चाहे विद्यार्थी हो या फिर किसान, बरतें सावधानी

प्रदेशवासियों के लिए सीएम का संदेश, अभी भी कोविड बन रहा चुनौती, चाहे विद्यार्थी हो या फिर किसान, बरतें सावधानी

मुख्यमंत्री मनोहर लाल 

मुख्यमंत्री मनोहर लाल 

चंडीगढ़। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल ने प्रदेशवासियों को संबोधित करते हुए तीन विषयों पर फोकस (Focus) बनाए रखा। उन्होंने जिसमें कोरोना संक्रमण से बचाव, किसानों, सरकारी कर्मियों से अपील की।

मुख्यमंत्री ने कोविड की अंतरराष्ट्रीय चुनौती की ओर ध्यान दिलाया व कर्मियों से कहा कि इस वक्त की नजाकत को समझें, मांगों के लिए फिर भी वक्त मिलेगा। सीएम ने विद्यार्थियों की आनलाइन पढ़ाई का जिक्र करते हुए कहा कि भले ही इस दौरान पढ़ाई को किसी तरह से सुचारु रखे हुए हैं, लेकिन काफी बच्चे इस तरह के भी हैं, जिनके पास में साधनों का अभाव बना हुआ है। सीएम ने कोरोना को हराने का संकल्प दोहराया साथ ही कोरोना वैक्सीन आने तक सावधानी बरतने की अपील की।

सीएम ने प्रदेशवासियों को संबोधित करते हुए कहा कि अभी भी कोविड की चुनौती (challenge) समाप्त होने का नाम नहीं ले रही है। इस समय कोविड तीसरे चरण में है, जिसकी रफ्तार बढ़ना चिंता का विषय है लेकिन हमारा लाकडाउन लगाने का कोई इरादा नहीं है, ना ही जुरमाने की कोई राशि बढ़ाने का विचार है।

सीएम ने कहा कि कोरोना को लेकर वैक्सीन का ट्रायल भी तीसरे चऱण में पहुंच गया है, यह भी संतोष की बात है। बाकी प्रदेशों की तुलना में हरियाणा में मृत्युदर कम है, इस क्षेत्र में काफी उल्लेखनीय काम हमारे डाक्टर व पैरामेडिकल स्टाफ काम कर रहा है।

राज्य में 35 हजार टैस्ट रोज हो रहे हैं। राज्य में पांच प्लाज्मा बैंक बने हैं, जिसमें 2252 मरीज ठीक होकर गए हैॆं। सीएम ने कहा कि कोरोना केयर सेंटर में 46 हजार बैड का इंतजाम हमारे पास में हैं। वर्तमान में ढाई हजार से लेकर तीन हजार केस रोजना ही आ रहे हैं।

कोरोना प्रकोप के कारण राजस्व में गिरावट पर चिंता

मुख्यमंत्री मनोहरलाल ने राज्य में आर्थिक चुनौती का भी उल्लेख करते हुए कहा कि कोविड काल की चुनौती के कारण वर्तमान समय में राज्य के राजस्व में दस से 12 हजार करोड़ की गिरावट रहेगी, उन्होंने इसका जिक्र करने के साथ ही कर्मियों को नसीहत देते हुए कहा कि हर किसी के पास में सरकारी नौकरी नहीं है,

हमें कम से कम इस कठिन वक्त में अपने सामाजिक दायित्व को ऊपर रखना चाहिए। धरने प्रदर्शन और हड़ताल करने वालों से सीएम ने कहा कि वक्त की नजाकत को देखकर अपनी लंबित मांगों को समय आने पर रखना ही उचित होगा।

मुख्यमंत्री ने कोविड (covid) की अंतरराष्ट्रीय चुनौती की ओर ध्यान दिलाया व कर्मियों से कहा कि इस वक्त की नजाकत को समझें, मांगों के लिए फिर भी वक्त मिलेगा।

Related Articles