News Narmadanchal

बरोदा उपचुनाव : पुलिस ने तैयार किया प्लान, पांच मिनट का होगा रिस्पांस टाइम

पुलिस अधीक्षक जश्नदीप सिंह रंधावापुलिस अधीक्षक जश्नदीप सिंह रंधावा

दीपक वर्मा : सोनीपत

सोनीपत पुलिस ने बरोदा उपचुनाव (Baroda by-election) को लेकर कमर कस ली है। बरोदा उप-चुनाव के दौरान किसी भी तरह की समस्या (Problem) आने पर पुलिस ने का रिस्पॉस टाइम 5 मिनट रखा गया है। इसके लिये बकायदा पुलिस अधीक्षक ने प्लान भी तैयार किया है।

प्लान के तहत बरोदा हलके में पेट्रोलिंग को तीन गुणा किया जा रहा है। इसी वजह से रिस्पांस टाइम भी 5 मिनट तक रखा गया है। इसके अलावा बरोदा उप-चुनाव में कोई भी शरारती तत्व या आपराधिक किस्म का व्यक्ति किसी तरह की परेशानी ना पैदा करे, इसके लिये भी पुलिस ने अभियान शुरू कर दिया है। इस अभियान के तहत 15 दिनों में ही पुलिस इस तरह के लोगों पर लगाम कस लेगी। प्रवेंटिव एक्शन लेते हुए पुलिस ऐसे लोगों को नजरबंद करेगी तथा संदिग्ध लोगों से बॉंड भी भरवाएगी। पुलिस अधीक्षक जश्नदीप सिंह रंधावा ने बताया कि बरोदा उप-चुनाव को लेकर जिले की पुलिस फोर्स पूरी तरह से तैयार है। इसके लिए सभी डीएसपी को निर्देश भी दिए गए हैं। पूरी योजना के तहत काम किया जाएगा। चुनाव पूरी ईमानदारी से हों, इसके लिये पुलिस काम करेगी।

आचार संहिता लगने के बाद से पकड़े 9 अवैध हथियार

पुलिस अधीक्षक जश्नदीप सिंह रंधावा ने बताया कि जब से आचार संहिता लगी है, उसके बाद से अब तक 9 अवैध हथियारों को बरामद किया जा चुका है। इन अवैध हथियारों के साथ पकड़े गए लोगों को भी जेल भेजा जा चुका है। रंधावा ने कहा कि किसी भी तरह के चुनाव में आपराधिक किस्म के व्यक्ति बाधा उत्पन्न कर सकते हैं, इसीलिये अवैध हथियारों को लेकर पुलिस पूरी तरह से सतर्क है। इसी तरह से अवैध शराब को लेकर भी पुलिस पूरी तरह से सतर्क है और किसी भी तरह नशीले पदार्थ की तस्करी को लेकर भी गुप्तचरों को सतर्क कर दिया गया है।

22 प्रतिशत हथियार हो गए हैं जमा

सोनीपत पुलिस ने चुनाव आचार संहिता लगते ही असला धारकों को अपने हथियार जमा करवाने के निर्देश दे दिए थे। 10 अक्टूबर तक सभी असला धारकों के हथियार जमा करवाने की तिथि तय की गई है। इसके अलावा सुरक्षा कारणों से जिन लोगों को हथियार की जरूरत है, ऐसे लोगों को डीसी एवं एसपी की अध्यक्षता वाली कमेटी को इसकी जानकारी देनी होगी। पुलिस अधीक्षक के अनुसार अब तक जिले के लाइसेंस शुदा हथियार धारकों में से 22 प्रतिशत ने अपने हथियार जमा करवा दिए हैं। जिनकी संख्या 1600 के करीब बनती है। पुलिस अधीक्षक के अनुसार जिले में तकरीबन 7,500 लाइसेंसी हथियार हैं।

10 सालों में किसी भी चुनाव में हिंसा करने वालों पर नजर

पिछले 10 सालों में किसी भी तरह के चुनावों में हिंसा करने वालों पर पुलिस ने विशेष नजर बना रखी है। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि ऐसे लोगों के खिलाफ विशेष अभियान चलाया गया है। ऐसे 5 लोगों को काबू कर प्रवेंटिव एक्शन भी लिया जा चुका है। ऐसे लोगों को बॉंड भरवाए जाएंगें और पुख्ता किया जाएगा कि ये लोग किसी भी तरीके से चुनाव को प्रभावित नहीं करेंगे। पुलिस अधीक्षक के अनुसार जिले के 40 मोस्टवांटेंड और 350 के करीब पीओ को लेकर भी पुलिस काम कर रही है।

हिस्ट्रीशीटरों की फाइल तैयार

हिस्ट्रीशीटरों को लेकर पुलिस अभी तक कुछ काम नहीं कर रही थी, लेकिन अब इनको लेकर काम शुरू कर दिया गया है। बताया गया है कि हिस्ट्रीशीटरों की फाइल पहले तैयार नहीं की जा रही थी। लेकिन अब ऐसे लोगों की फाइल तैयार की जा रही है। विशेषतौर पर उन लोगों को हिस्ट्रीशीटर की फाइल में जगह दी जा रही है, जोकि कम से कम 3 मुकदमों में आरोपित हैं। बताया गया है कि पुराने हिस्ट्रीशीटरों की फाइल में लगभग 30 ऐसे लोग जोड़े भी जा चुके हैं। बरोदा चुनाव को लेकर ऐसे लोगों पर पुलिस का फोकस रहेगा।

पुलिस (Police) ने अभियान शुरू कर दिया है। इस अभियान के तहत 15 दिनों में ही पुलिस इस तरह के लोगों पर लगाम कस लेगी। प्रवेंटिव एक्शन लेते हुए पुलिस ऐसे लोगों को नजरबंद करेगी तथा संदिग्ध लोगों से बॉंड भी भरवाएगी।

Related Articles