News Narmadanchal
बहादुरगढ़ : पार्षद बोले, स्ट्रीट लाइट घोटाला करने वालों को अब तो सजा दिलवाए सरकार

बहादुरगढ़ : पार्षद बोले, स्ट्रीट लाइट घोटाला करने वालों को अब तो सजा दिलवाए सरकार

पार्षद व पार्षद प्रतिनिधि।

हरिभूमि न्यूज : बहादुरगढ़

वर्ष-2017 में 2400 स्ट्रीट लाइटों की खरीद में गड़बड़ी का आरोप लगाते हुए कुछ पार्षदों ने शिकायत (Complaint) की थी। सीएम फ्लाइंग स्कवॉयड द्वारा की गई जांच में इन लाइटों (Lights) की खरीद में 40 लाख रुपये से ज्यादा की आर्थिक हानि की पुष्टि होने के बाद अब विजिलेंस (Vigilance) ने इस मामले में की गई कार्रवाई का विवरण मांगा है।

सीएम फ्लाइंग के बाद विजिलेंस कार्रवाई से उत्साहित पार्षद रमन यादव, गुरदेव राठी, शशि कुमार, पार्षद मोनिका के पति कपूर राठी, रेखा दलाल के पति सोनू व राममूर्ति के पुत्र रोहित ने सरकार से शहर को रोशन करने के नाम पर नगर परिषद के खजाने को भी चूना लगाने वालों को सजा दिलवाने की मांग की है।

एक की बजाय लगाए 18 टेंडर

प्रदेश सरकार ने एक समय में एक प्रकार के काम का एक ही टेंडर लगाने के निर्देश दे रखे हैं। लेकिन नगर परिषद बहादुरगढ़ के अधिकारियों ने 45 वॉट की एलईडी लाइटें खरीदने के लिए 9.92 लाख रुपए के 18 अलग-अलग टेंडर लगा दिए। बहादुरगढ़ में करीब एक करोड़ 78 लाख 56 हजार रुपए के 18 टेंडर लगाए गए। जबकि झज्जर नगर पालिका ने 450 एलईडी लाइटें खरीदने के लिए करीब 25 लाख रुपए का एक ही टेंडर लगाया।

बेस रेट में 600 रुपए का अंतर

बहादुरगढ़ नगर परिषद और झज्जर नगर पालिका द्वारा 45 वॉट की एलईडी लाइट खरीदने के लिए निर्धारित बेस रेट में ही 600 रुपए का अंतर है। बहादुरगढ़ नगर परिषद ने जहां 5800 रुपए बेस रेट निर्धारित किया, वहीं झज्जर नगर पालिका 5200 रुपए का बेस रेट निर्धारित किया। इसके अनुसार ही बहादुरगढ़ नप द्वारा खरीदी जाने वाली करीब 3 हजार लाइटों की कीमत में 18 लाख रुपए का घोटाला तय नजर आया।

एक ही कंपनी के अलग रेट

राजस्थान के उदयपुर की पायरोटेक इलेक्ट्रॉनिक्स ने झज्जर नगर पालिका में जहां 45 वॉट की एलईडी लाइटों के लिए 3600 रुपए का रेट भरा तो बहादुरगढ़ नगर परिषद में 5800 के बेस रेट पर 12 प्रतिशत माइनस करके 5104 रुपए का रेट भरा। एसएस एंटरप्राइजेज ने बहादुरगढ़ में 11.51 प्रतिशत माइनस में 5132 रुपए में अनेक टेंडर भरे हैं जबकि झज्जर में इसी कंपनी ने 407 रुपए कम 4725 रुपए का रेट भरा है।

पहली बार ऐसी स्पेशल बैठक

बहादुरगढ़ नगर परिषद में जहां एनडी इलेक्ट्रिकल्स ने 5132 रुपये तथा इंफोर्मेज एनर्जी ने 5104 तथा 5162 रुपए के रेट भरे हैं। वहीं झज्जर नगर पालिका में सहान इंटरनेशनल ने 3780 रुपए तथा सांगवान एनर्जी ने 4350 रुपए के रेट भरे हैं। हालांकि इसके बाद पहली बार ई-टेंडर होने, सभी एजेंसियों के रेट ओपन होने और ठेकेदार से नेगोसिएशन (मोल-भाव) की गई।

अफसरों ने अधिक बताए रेट

अगस्त और सितंबर-2017 में कार्यालय रिपोर्ट में नगर परिषद के तत्कालीन अधिकारियों ने लाइटों के टेंडर रेट मार्केट रेट से अधिक होने की टिप्पणी करते हुए कीमतों को स्वीकारने अथवा नकारने का निर्णय नगर परिषद बोर्ड पर छोड़ दिया। जिसके बाद शुक्रवार 22 सितंबर को प्रधान शीला राठी की अध्यक्षता में नगर परिषद की विशेष बैठक का आयोजन किया गया था।

इन पार्षदों ने अप्रूव किए थे रेट

बैठक में पार्षद प्रेमचंद, रवींद्र जाखड़, रवि खत्री, दीपा रानी, प्रवीण राठी, प्रवीण छिल्लर, अशोक राठी, कुसुम शर्मा, जसबीर सैनी, रमिता चुघ, युवराज छिल्लर, कविता गोयल, विनोद कुमार, अलबेल पहलवान, कांता खत्री, शीला राठी, रेखा वत्स, अनीता देवी, सतप्रकाश छिकारा व मोनिका गर्ग ने एलईडी लाइटों के मार्केट कीमत से अधिक रेट अप्रूव किए थे।

नप को 40 लाख का नुकसान

बैठक में इन 20 पार्षदों ने 45 वॉट की एलईडी लाइट का करीब 5100 रुपए का रेट स्वीकृत किया था। जबकि झज्जर नगर पालिका ने उसी सप्ताह इन्हीं एलईडी लाइटों को 3600 रुपए में खरीदने का टेंडर अलॉट किया था। अपनी जांच में सीएम फ्लाइंग स्कवॉयड ने भी माना कि करीब 3 हजार लाइटों की खरीद पर बहादुरगढ़ नगर परिषद को 40 लाख रुपए से अधिक का नुकसान हुआ।

सीएम फ्लाइंग (CM Flying) के बाद विजिलेंस कार्रवाई से उत्साहित पार्षद रमन यादव, गुरदेव राठी, शशि कुमार, पार्षद मोनिका के पति कपूर राठी, रेखा दलाल के पति सोनू व राममूर्ति के पुत्र रोहित ने सरकार (Government) से शहर को रोशन करने के नाम पर नगर परिषद के खजाने को भी चूना लगाने वालों को सजा दिलवाने की मांग की है।

Related Articles