News Narmadanchal
यूनिट टेस्ट के बाद बोर्ड परीक्षा में शामिल हो सकेंगे छात्र, वार्षिक मूल्यांकन में जुड़ेंगे इनके अंक

यूनिट टेस्ट के बाद बोर्ड परीक्षा में शामिल हो सकेंगे छात्र, वार्षिक मूल्यांकन में जुड़ेंगे इनके अंक

केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (फाइल फोटो)केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (फाइल फोटो)

रायपुर. स्कूल की टर्म परीक्षा और यूनिट टेस्ट देने बाद ही छात्र बोर्ड परीक्षा में शामिल हो पाएंगे। सीबीएसई ने इसे लेकर निर्देश जारी कर दिया है। बोर्ड के अनुसार जो छात्र ऑनलाइन परीक्षा में शामिल नहीं हो पाए हैं, उनकी स्कूल द्वारा दोबारा परीक्षा ली जाएगी। यह परीक्षा ऑफलाइन स्कूल में ली जाएगी। हर छात्र को प्रथम टर्म परीक्षा और यूनिट टेस्ट देना अनिवार्य है। बिना इसके छात्र का वार्षिक बोर्ड परीक्षा का रिजल्ट तैयार नहीं हो सकेगा, क्योंकि दो टर्म परीक्षा और दो यूनिट टेस्ट परीक्षा शेड्यूल में निर्धारित है।

इन चारों में जिन दो परीक्षा में बेस्ट अंक आते हैं, उसके अंक वार्षिक परीक्षा के रिजल्ट में जुड़ते हैं। ज्ञात हो कि कोरोनाकाल में स्कूल बंद होने के कारण ऑनलाइन क्लास शुरू की गई, लेकिन बड़ी संख्या में छात्र ऑनलाइन क्लास से नहीं जुड़ पाए। इस कारण स्कूल के यूनिट टेस्ट और फर्स्ट टर्म में भी ये शामिल नहीं हो पाए। जो छात्र परीक्षा में शामिल नहीं हुए, उनकी अब फिर से परीक्षा ली जाएगी।

गेट के लिए आवेदन 7 तक

इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नॉलॉजी बॉम्बे ने ग्रेजुएट एप्टिट्यूड टेस्ट इन इंजीनियरिंग (गेट) के लिए आवेदन की समयसीमा बढ़ा दी है। आवेदन प्रक्रिया 29 सितंबर को समाप्त होनी थी, लेकिन अब उम्मीदवार 7 अक्टूबर तक आधिकारिक वेबसाइट gate.iitb.ac.in पर आवेदन कर सकते हैं। उम्मीदवारों को प्रति पेपर 1,500 रुपए फीस देनी होगी। महिला और आरक्षित श्रेणी के उम्मीदवारों के लिए शुल्क 750 रुपए है।

जेईई के नतीजे कल

जेईई एडवांस्ड के परिणाम 5 अक्टूबर को घोषित किए जा सकते हैं। इस साल आईआईटी दिल्ली द्वारा जेईई एडवांस क्वालीफाइंग कटऑफ जारी किया गया है, ताकि उम्मीदवारों को रैंक सूची में शामिल किया जा सके और प्रवेश के लिए स्क्रीनिंग की जा सके। इसके बाद रिजल्ट ऑनलाइन मोड में 5 अक्टूबर को घोषित किया जाना है। 27 सितंबर को हुई इस संयुक्त प्रवेश परीक्षा के लिए 1.6 लाख छात्रों ने पंजीकरण कराया था। इसमें प्राप्त रैंक के आधार पर इंजीनियरिंग संस्थानों में प्रवेश दिए जाएंगे।  

स्कूल की टर्म परीक्षा और यूनिट टेस्ट देने बाद ही छात्र बोर्ड परीक्षा में शामिल हो पाएंगे। सीबीएसई ने इसे लेकर निर्देश जारी कर दिया है। बोर्ड के अनुसार जो छात्र ऑनलाइन परीक्षा में शामिल नहीं हो पाए हैं, उनकी स्कूल द्वारा दोबारा परीक्षा ली जाएगी। यह परीक्षा ऑफलाइन स्कूल में ली जाएगी। हर छात्र को प्रथम टर्म परीक्षा और यूनिट टेस्ट देना अनिवार्य है। बिना इसके छात्र का वार्षिक बोर्ड परीक्षा का रिजल्ट तैयार नहीं हो सकेगा, क्योंकि दो टर्म परीक्षा और दो यूनिट टेस्ट परीक्षा शेड्यूल में निर्धारित है।

Related Articles