News Narmadanchal
ये नया वाला मास्क जिसके 100 प्रतिशत एन्टी-बेक्टिरियल होने का दावा है

ये नया वाला मास्क जिसके 100 प्रतिशत एन्टी-बेक्टिरियल होने का दावा है

लेजर-इंड्यूस्ड ग्राफीन सूर्य की रोशनी में 10 मिनट रहने के बाद कोरोना के वायरस का खात्मा संभव

नई दिल्ली (ईएमएस)। वैज्ञानिकों का कहना है, कि चीन की प्रयोगशाला में किए गए प्रारंभिक परीक्षणों में लेजर-इंड्यूस्ड ग्राफीन सूर्य की रोशनी में 10 मिनट रहने के बाद मनुष्यों को प्रभावित करने वाले दो कोरोना वायरसों को लगभग 100 प्रतिशत तक निष्क्रिय करने में सक्षम है।

अनुसंधानकर्ता भविष्य में सार्स-सीओवी-2 वायरस पर इस तरह की जांच करने की योजना बना रहे हैं। सार्स-सीओवी-2 वायरस के कारण ही कोविड-19 बीमारी होती है।

टीम ने ग्राफीन का मास्क भी विकसित किया है,जो 80 प्रतिशत तक जीवाणुओं को रोकने/निष्क्रिय करने में सक्षम है। अनुसंधानकर्ताओं का कहना है कि सूर्य की रोशनी में 10 मिनट रहने के बाद मास्क की प्रभावकारिता करीब 100 प्रतिशत हो जाएगी।अनुसंधान के अनुसार,ग्राफीन मास्क का निर्माण बेहद कम लागत पर आसानी से किया जा सकता है और इससे कच्चे माल की समस्या और गैर-जैवनिम्नीकरणीय (नॉन-बायोडिग्रेडेबल) मास्कों के निस्तारण की समस्या भी खत्म हो जाएगी।

अनुसंधानकर्ताओं ने लेजर का उपयोग करने ग्राफीन मास्क के निर्माण को पर्यावरोन्मुखी तकनीक बताया है। उनका कहना है कि कार्बन से बनी कोई भी चीज जैसे, सेल्युलोज या कागज को भी इस तकनीक की मदद से ग्राफीन में बदला जा सकता है। उनका कहना है कि सिर्फ कच्चे माल से बिना किसी रसायन का उपयोग किए उचित वातावरण में ग्राफीन तैयार किया जा सकता है,इस प्रक्रिया में कोई प्रदूषण नहीं होगा।

अनुसंधानकर्ता का कहना है,लेजर तकनीक से तैयार ग्राफीन मास्क का एक से ज्यादा बार उपयोग किया जा सकता है। अगर ग्राफीन का निर्माण करने के लिए बायो सामग्री का उपयोग किया जाए तब ,यह मास्क के लिए कच्चे माल की उपलब्धता की समस्या का भी समाधान कर सकता है।अनुसंधानकर्ताओं का मानना है कि यह मास्क कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में उपयोग साबित होगा क्योंकि सामान्य तौर पर प्रयोग किए जाने वाले सर्जिकल मास्क में जीवाणुओं को निष्क्रिय करने की क्षमता नहीं होती है।

लेजर-इंड्यूस्ड ग्राफीन सूर्य की रोशनी में 10 मिनट रहने के बाद कोरोना के वायरस का खात्मा संभव नई दिल्ली (ईएमएस)। वैज्ञानिकों का कहना है, कि चीन की प्रयोगशाला में किए गए प्रारंभिक परीक्षणों में लेजर-इंड्यूस्ड ग्राफीन सूर्य की रोशनी में 10 मिनट रहने के बाद मनुष्यों को प्रभावित करने वाले दो कोरोना वायरसों को लगभग

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *