News Narmadanchal
सड़कों पर मार्च और प्रदर्शन, भोपाल इकबाल मैदान में मानव श्रृंखला

सड़कों पर मार्च और प्रदर्शन, भोपाल इकबाल मैदान में मानव श्रृंखला

भोपाल, बिच्छू डॉट कॉम। हाथों में तख्ती, जुबां पर गुस्सा, आंखों में तल्खी। तख्ती पर लिखा था-कहां सुरक्षित हैं बेटियां, बेटी बचाओ बोलना बेमानी है। इकबाल मैदान में मानव शृंखला का हिस्सा बनीं नाजिया खान आक्रोशित लहजे में बोलीं- न दो महीने की बेटी सुरक्षित है, न बीस साल की। शर्म आती है, ऐसी व्यवस्था पर।
हाथरस में बेटी के साथ हुई निर्ममता के विरोध में शहर में कई जगह विरोध प्रदर्शन और कैंडल मार्च हुआ। इनमें कई युवा, छात्र-छात्राएं, समाजसेवी भी शामिल हुए। प्रदर्शन में ज्ञान विज्ञान समिति, सीपीआई, मुस्लिम महासभा, भीम आर्मी समेत अन्य संगठनों से जुड़े कार्यकर्ता शामिल हुए। वहीं, वाल्मीकि समाज बैरागढ़ द्वारा कालका से चंचल चौराहे तक कैंडल मार्च निकाला गया।
आवाम की आवाज: मानव श्रृंखला और प्रदर्शनों के दौरान कई कार्यकर्ता व समाजसेवी वहां से गुजर रहे लोगों को पर्चे भी बांट रहे थे। इन पर लिखा था- भोपाल के आवाम की आवाज। पर्चे में मांग की गई कि फास्ट ट्रैक कोर्ट के तहत पीडि़ता को न्याय मिले। घटना की स्वतंत्र न्यायिक जांच हो। पीडि़ता के परिजनों को पूरी सुरक्षा की गारंटी और क्षतिपूर्ति तय की जाए।

The post सड़कों पर मार्च और प्रदर्शन, भोपाल इकबाल मैदान में मानव श्रृंखला appeared first on Bichhu.com.

भोपाल, बिच्छू डॉट कॉम। हाथों में तख्ती, जुबां पर गुस्सा, आंखों में तल्खी। तख्ती पर लिखा था-कहां सुरक्षित हैं बेटियां, बेटी बचाओ बोलना बेमानी है। इकबाल मैदान में मानव शृंखला का हिस्सा बनीं नाजिया खान आक्रोशित लहजे में बोलीं- न दो महीने की बेटी सुरक्षित है, न बीस साल की। शर्म आती है, ऐसी व्यवस्था
The post सड़कों पर मार्च और प्रदर्शन, भोपाल इकबाल मैदान में मानव श्रृंखला appeared first on Bichhu.com.

Related Articles