News Narmadanchal
सार्वजनिक उपक्रम बेचने पर भड़के सीएम भूपेश बघेल, बोले- रेलवे स्टेशन बेचे जा रहे, क्या तुम्हारे दादा ने बनाया था

सार्वजनिक उपक्रम बेचने पर भड़के सीएम भूपेश बघेल, बोले- रेलवे स्टेशन बेचे जा रहे, क्या तुम्हारे दादा ने बनाया था

रायपुर. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पूर्व प्रधानमंत्री स्व. इंदिरा गांधी की जयंती पर आयोजित कार्यक्रम में सार्वजनिक उपक्रमों को बेचे जाने को लेकर एनडीए पर तीखा हमला बोला। उन्होंने कहा, बाजपेयी और मोदी सरकार द्वारा नवरत्नों को बेचकर अपने पूंजीपति दोस्तों को उपकृत करने का काम किया गया है। बाजपेयी सरकार के समय कोरबा का बाल्को बिक गया, रेलवे स्टेशन बेचे जा रहे हैं। उन्होंने तल्ख टिप्पणी के साथ पूछा कि इन सबको क्या तुम्हारे दादा-परदादा ने बनाया था। देश में हवाई अड्डे बेचे जा रहे हैं, क्या यह तुम्हारे चाचा के दहेज में आया था? श्री बघेल ने कहा कि भाजपा के लोग पूछते हैं कि 70 साल में कांग्रेस ने क्या किया? यह सब जो बेचे जा रहे हैं, यह सब कांग्रेस शासनकाल में ही बने थे।

कांग्रेस मुख्यालय राजीव भवन में मुख्यमंत्री ने पूर्व प्रधानमंत्री स्व. इंदिरा गांधी के देश के प्रति योगदान को याद करते हुए कहा कि इंदिरा गांधी ने आजीवन गरीबों और समाज के कमजोर वर्गों के उत्थान के लिए प्रयास किया और देश की एकता तथा अखंडता की रक्षा के लिए अपना जीवन न्योछावर कर दिया। उन्होंने देश की तरक्की के लिए कई कड़े फैसले लिए। उन्हें आयरन लेडी के नाम से भी जाना जाता है।

जेल जाने से डरने वाले न दें राष्ट्रवाद की नसीहत

हमारी विरासत है कि हमारे नेताओं ने देश की एकता और अखंडता के लिए अपने प्राणों की आहुति दी, लेकिन ये लोग सत्ता के लिए दूसरे की बलि चढ़ा देते हैं। ये कह नहीं सकते कि हमने अपराध किया है। महात्मा गांधी कोर्ट में खड़े होकर कहते थे कि हां, मैंने अपराध किया है। ये कहते हैं कि बाबरी मस्जिद हमने नहीं गिराई। जेल जाने से डरने वाले लोग हमें राष्ट्रवाद की नसीहत देते हैं। यह दुर्भाग्य है। हमारे साथियों को भी मुंहतोड़ जवाब देना चाहिए। गाेमाता की जय बोलते हैं, लेकिन इसी छत्तीसगढ़ में गोमांस समेत उसकी हड्डियों और चमड़ी तक को बेचने वाले भाजपाई हमें न सिखाएं। हमने गोसेवा की नीति पर काम किया है। गोबर खरीदी योजना से लेकर गाेपालकों तक के लिए योजनाएं चल रही हैं।

देश नहीं भूलेगा उनका योगदान : मरकाम

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा कि देश के प्रति इंदिराजी के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता। उन्होंने बैकों का राष्ट्रीयकरण किया, अनाज की कमी को दूर करने हरित क्रांति की शुरुआत कर कृषि क्षेत्र में क्रांतिकारी बदलाव लाया। विश्व में इंदिराजी की पहचान एक मजबूत एवं सशक्त नेतृत्वकर्ता के रूप में है, उन्हें ऑयरन लेडी के नाम से जाना जाता है। भाजपा सरकार बैंकों का निजीकरण कर बैंकों को डुबाने का काम कर रही है। गरीबों के पैसे बैंकों में डूब रहे हैं।

नेहरू-गांधी परिवार से डरता है विपक्ष

श्री बघेल ने कहा कि ऐसी महान नेता को विपक्ष के लोग गूंगी गुड़िया कहकर दुष्प्रचारित करते थे। आज भी विपक्ष को सबसे ज्यादा डर किसी से है तो वह गांधी-नेहरू परिवार से है। चाहे वह सोनिया हों, राहुल गांधी हों, उनके खिलाफ दुष्प्रचार करने का कोई मौका नहीं छोड़ते। इंदिरा गांधी के नेतृत्व का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि नेहरू के समय कई चुनौतियां रहीं, लेकिन इंदिरा गांधी के समय जो चुनौतियां रहीं, वह अन्य नेताओं के सामने नहीं रहीं। उन्हें आदिवासियों से बहुत लगाव था, उन्हें प्रेम था। वे कहती भी थीं कि पिछले जन्म में शायद मैं आदिवासी परिवार में जन्मी थी।

मूणत बोले- सीएम झूठ और नफरत की कर रहे राजनीति

इधर, भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता व पूर्व मंत्री राजेश मूणत ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पर सरकारी उपक्रमों के विनिवेश व निजीकरण को लेकर झूठ और नफरत की राजनीति करने का आरोप लगाया। श्री मूणत ने कहा, भाजपा नेताओं के दादा-नाना तक जाने के पहले मुख्यमंत्री बघेल अपने आकाओं और कांग्रेस सरकारों के कार्यकाल की सच्चाइयों से रूबरू हो लें।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पूर्व प्रधानमंत्री स्व. इंदिरा गांधी की जयंती पर आयोजित कार्यक्रम में सार्वजनिक उपक्रमों को बेचे जाने को लेकर एनडीए पर तीखा हमला बोला। उन्होंने कहा, बाजपेयी और मोदी सरकार द्वारा नवरत्नों को बेचकर अपने पूंजीपति दोस्तों को उपकृत करने का काम किया गया है। बाजपेयी सरकार के समय कोरबा का बाल्को बिक गया, रेलवे स्टेशन बेचे जा रहे हैं। उन्होंने तल्ख टिप्पणी के साथ पूछा कि इन सबको क्या तुम्हारे दादा-परदादा ने बनाया था। देश में हवाई अड्डे बेचे जा रहे हैं, क्या यह तुम्हारे चाचा के दहेज में आया था? श्री बघेल ने कहा कि भाजपा के लोग पूछते हैं कि 70 साल में कांग्रेस ने क्या किया? यह सब जो बेचे जा रहे हैं, यह सब कांग्रेस शासनकाल में ही बने थे।

Related Articles