News Narmadanchal
सूरत : जानें गैरकानूनी झींगा तालाबों को जिलाधीश ने क्या अल्टीमेटम दिया

सूरत : जानें गैरकानूनी झींगा तालाबों को जिलाधीश ने क्या अल्टीमेटम दिया

सूरत जिले के ओलपाड़ तहसीलदार ने भेजे नोटिस के बाद इस बारे में मंगलवार को मजूरा और चौर्यासी तहसीलदार ने नोटिस भेजकर झींगा तलाव के कई संचालकों को सरकारी जमीन पर से अतिक्रमण दूर करने के लिए 15 दिन का समय दिया है। इतना ही नहीं यदि सरकार ने जमीन आवंटित की है तो इस बारे में जरूरी दस्तावेज लेकर उपस्थित रहने को कहा है। यदि 15 दिन में गैर कानूनी जिंगा तालाब दूर नहीं किए गए तो लैंड ग्रैबिंग एक्ट के तहत कार्रवाई की जाने की धमकी दी हैष सूरत में गैरकानूनी जिंगा तलाव बड़े पैमाने पर बने हुए हैं।

करोड़ों रुपए की सरकारी जमीनों पर वर्षों से कब्जा करने के बाद अपनी राजनीतिक पहुंच का लाभ उठाकर कई लोगों ने अब तक करोड़ों रुपए का लाभ कमाया है। सरकार के ध्यान पर यह बात आने के बाद सरकार ने कार्यवाही शुरू की है। कई लोगों ने तो नदी के किनारे और जहां पर बरसात का पानी निकाला जाता है ऐसे स्थानों पर जिंगा तालाब बना देने से लोगों को परेशानी हो रही है। इस बारे में नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल में भी शिकायत की गई थी। जिसके चलते एनजीटी ने कलेक्टर ने सरकारी जमीन पर कब्जा करने वालों की जमीन का माप कर रिपोर्ट करने को कहा था।

एनजीटी के निर्देश के बाद हुई कार्रवाई

एनजीटी के निर्देश के बाद कलेक्टर ने डीआईआरएल को जमीन का माप करने के लिए कहा था। डीआइआरएल के रिपोर्ट के आधार पर ओलपाड़ तहसीलदार ने जिंगा तालाब के मालिकों को अतिक्रमण हटाने का नोटिस दिया। इसके बाद मजूरा तहसीलदार ने आभवा,खजोद,गभेणी,भीमपोर,डुम्मस चौर्यासी तहसीलदार ने राजगरी, दामका, आभवा,जूनागांव,तलंगपुर के झिंगा तालाब के लिए नोटिस भेजा है। लंबे समय के बाद प्रशासन की ओर से जिंगा तलाव के मालिकों के सामने यह कार्रवाई शुरू की जाने पर जिंगा तलाव संचालक डर गए हैं।

फिर से एक बार अपनी पहुंच राजनीतिक गलियारों में लगाने के लिए सक्रिय हो गए हैं। अब देखना यह है कि हर बार की तरह यह लोग फिर से एक बार सब शांत कराने में सफल रहते हैं या नहीं है।

सूरत जिले के ओलपाड़ तहसीलदार ने भेजे नोटिस के बाद इस बारे में मंगलवार को मजूरा और चौर्यासी तहसीलदार ने नोटिस भेजकर झींगा तलाव के कई संचालकों को सरकारी जमीन पर से अतिक्रमण दूर करने के लिए 15 दिन का समय दिया है। इतना ही नहीं यदि सरकार ने जमीन आवंटित की है तो इस

Related Articles