News Narmadanchal

हर बार बाहरी प्रत्याशी को गोहद ने नवाजा

1980 से गोहद बाहरी प्रत्याशियों पर जता रहा भरोसा, स्थानीय भितरघात का शिकार हुए।

भिंड, बिच्छू डॉट कॉम। जिले में अजा वर्ग के लिए सुरक्षित गोहद विधानसभा के मतदाताओं का अपना ही अंदाज है। पिछले चुनाव परिणाम देखें तो उससे तस्वीर स्पष्ट है। गोहद के लोगों ने अपनों से ज्यादा बाहरी प्रत्याशी पर विश्वास जताया और जीत की मुहर लगा दी। यही वजह है गोहद में पिछले 10 चुनावों में बाहरी प्रत्याशी विधायक की सीट तक हर बार पहुंचे। यानी 1980 के बाद से 2018 तक 10 चुनाव हुए, इनमें स्थानीय प्रत्याशियों को हर बार हार मिली। कई बार स्थानीय प्रत्याशियों को जमानत तक बचाना मुश्किल हुई है। अब इस बार उपचुनाव में गोहद के मतदाताओं का मूड क्या है, यह 10 नवंबर को परिणाम तय करेगा।
दावेदार भी करते हैं स्थानीय का विरोध, भितरघात चरम पर
गोहद के मतदाताओं में बाहरी पर भरोसे के मिजाज का बड़ा कारण टिकट के दावेदार बनते हैं। दरअसल गोहद में स्थानीय नेता का टिकट होता है तो उसी दल के दूसरे दावेदार स्थानीय का विरोध करते हैं। चुनाव में भितरघात तक करते हैं। यह स्थिति हाल में कांग्रेस प्रत्याशी मेवाराम जाटव के सामने आई। गोहद में उपचुनाव के लिए जाटव का टिकट होते ही कांग्रेस में टिकट के दावेदार जिला पंचायत अध्यक्ष रामनारायण हिंडौलिया नाराज होकर सपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव से मुलाकात कर आए। कांग्रेस नेता लहार विधायक डॉ गोविंद सिंह ने किसी तरह डेमेज कंट्रोल किया। हिंडौलिया को वापस साथ ले आए। इसके बाद कांग्रेस के दावेदारों की चिट्ठी वायरल हुई।
अब तक हुए चुनाव में गोहद का इतिहास
1980 के विधानसभा चुनाव में भिंड के श्रीराम जाटव भाजपा से विधायक बने। 1985 के चुनाव में ग्वालियर के चतुर्भुज भदकारिया कांग्रेस से विधायक बने। 1990 में श्रीराम जाटव दूसरी बार भाजपा से विधायक बने। 1993 में ग्वालियर के चतुरीलाल बराहदिया बसपा से विधायक बने। 1998 में भिंड के लाल सिंह आर्य भाजपा से विधायक बने। 2003 लाल सिंह आर्य दोबारा विधायक बने। 2008 में भिंड के माखन जाटव कांग्रेस से विधायक बने। 2009 में विधायक माखन जाटव की हत्या के बाद उपचुनाव हुआ तो श्री जाटव के बेटे रणवीर जाटव कांग्रेस से विधायक बने। 2013 में लाल सिंह आर्य तीसरी बार विधायक बने। 2018 में रणवीर जाटव कांग्रेस से दूसरी बार विधायक बने। इन 10 चुनावों में स्थानीय प्रत्याशियों पर गोहद के मतदाताओं ने एक बार भी भरोसा नहीं किया।

गोहद में पिछले 10 चुनाव के परिणाम
1980 गोहद

  • श्रीराम जाटव (भिंड) भाजपा 11925, 33.36 फीसद
  • चतुर्भुज भदकारिया (ग्वालियर) कांग्रेस 10515, 29.42 फीसद

1985 गोहद

  • चतुर्भुज भदकारिया (ग्वालियर) कांग्रेस 23370, 57.61 फीसद
  • श्रीराम जाटव (भिंड) भाजपा 16351, 40.31 फीसद

1990 गोहद

  • श्रीराम जाटव (भिंड) भाजपा 21214, 45.42 फीसद
  • बारेलाल मंडेलिया कांग्रेस 10872, 23.28 फीसद

1993 गोहद

  • चतुरीलाल बराहदिया (ग्वालियर) बसपा 21235, 35.17 फीसद
  • बारेलाल मंडेलिया कांग्रेस 18013, 29.83

1998 गोहद

  • लाल सिंह आर्य (भिंड) भाजपा 18869, 31.28 फीसद
  • चतुरीलाल बराहदिया (ग्वालियर) बसपा 14531, 24.09 फीसद

2003 गोहद

  • लाल सिंह आर्य (भिंड) भाजपा 27646, 32.58 फीसद
  • श्रीराम जाटव (भिंड) कांग्रेस 16997, 20.03 फीसद

2008 गोहद

  • माखन लाल जाटव (भिंड) कांग्रेस 27751, 30.37 फीसद
  • लाल सिंह आर्य (भिंड) भाजपा 26198, 28.67 फीसद

2009 गोहद

  • रणवीर जाटव (भिंड) कांग्रेस 55442, 60.47 फीसद
  • सोवरन जाटव (गोहद) भाजपा 32871, 35.85 फीसद

2013 गोहद

  • लाल सिंह आर्य (भिंड) भाजपा 51711, 45.65 फीसद
  • मेवाराम जाटव (गोहद) कांग्रेस 31897, 28.16 फीसद
    2018 गोहद
  • रणवीर जाटव (भिंड) कांग्रेस 62981, 48.58 फीसद
  • लाल सिंह आर्य (भिंड) भाजपा 38992, 30.07 फीसद

The post हर बार बाहरी प्रत्याशी को गोहद ने नवाजा appeared first on Bichhu.com.

भिंड, बिच्छू डॉट कॉम। जिले में अजा वर्ग के लिए सुरक्षित गोहद विधानसभा के मतदाताओं का अपना ही अंदाज है। पिछले चुनाव परिणाम देखें तो उससे तस्वीर स्पष्ट है। गोहद के लोगों ने अपनों से ज्यादा बाहरी प्रत्याशी पर विश्वास जताया और जीत की मुहर लगा दी। यही वजह है गोहद में पिछले 10 चुनावों
The post हर बार बाहरी प्रत्याशी को गोहद ने नवाजा appeared first on Bichhu.com.

Related Articles