News Narmadanchal
22 किलोमीटर की पदयात्रा : पानी मांगने सड़क पर उतरे सैकड़ों किसान…

22 किलोमीटर की पदयात्रा : पानी मांगने सड़क पर उतरे सैकड़ों किसान…

कवर्धा. वर्षो पुरानी सुतियापाठ नहर विस्तार की मांग को लेकर क्षेत्र के सैकड़ों किसानो ने पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत गुरूवार को भारतीय किसान संघ के बैनर तले विकासखण्ड मुख्यालय स. लोहारा से जिला मुख्यालय कवर्धा तक करीब 22 किलो मीटर की पदयात्रा की और कवर्धा पहुंचकर अपनी मांग से संबंधित ज्ञापन जिला प्रशासन को सौंपा। उल्लेखनीय है कि स. लोहारा क्षेत्र में निर्मित सुतिपाठ जलाशय के नहर विस्तार की मांग क्षेत्र के किसानो द्वारा वर्षो से की जा रही है। इस दौरान तात्कालीक भाजपा सरकार से लेकर मौजूदा कांग्रेस सरकार तक क्षेत्र के किसानो ने कई बार शासन-प्रशासन के समक्ष अर्जी विनती भी लगाई है लेकिन अभी तक किसानो की मांग के अनुरूप सुतियापाठ नहर विस्तार नहीं किया गया है।

यही वजह है कि भारतीय किसान संघ ने क्षेत्र के किसाना की इस मांग को लेकर बड़ा आंदोलन करने का ऐलान किया था। जिसकी तैयारियां बीते करीब चार माह से की जा रही थी। इसी आंदोलन की अंतिम कड़ी में गुरूवार को क्षेत्र के सैकड़ों किसानों ने स. लोहारा तहसील कार्यालय के सामने एकत्र होकर जिला मुख्यालय कवर्धा तक पदयात्रा निकाली।

इस पद यात्रा में न सिर्फ स. लोहारा क्षेत्र के किसान शामिल हुए बल्कि कवर्धा तथा पंडरिया क्षेत्र के किसानो ने भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। किसानों के साथ उनके परिवार की महिलाएं तथा बच्चे भी अपना हक मांगने सड़क पर उतरे। बताया जाता है कि पदयात्रा को लेकर उत्साही किसानों की भीड़ गुरूवार की सुबह से ही पदयात्रा रवानगी स्थल स. लोहारा तहसील कार्यालय के सामने जुटने लगी थी।

जहां दोपहर 11.00 बजे तक किसानों की निर्धारित संख्या तथा भारतीय किसान संघ के तमाम नेताओं के पहुंचने के बाद विधिवत पदयात्रा का शुभारंभ किया गया। करीब 22 किलो मीटर की इस पदयात्रा में ग्रामीण किसान पुरूष, महिला तथा बच्चे कतारबद्ध होकर हांथ में अपनी मांग से संबंधित तख्ती, बैनर पोस्टर लिए नारेबाजी करते चल रहे थे। यात्रा के दौरान मार्ग में पड़ने वाले कई गांव से भी किसानों की भीड़ पदयात्रा में शामिल होते चली गई और दोपहर करीब 3.00 बजे किसानों का भारी रैला जिला मुख्यालय कवर्धा पहुंच गया।

जहां किसानों स्थानीय सरदार पटेल मैदान में एक सभा का आयोजन किया और सभा के बाद किसानों ने अपनी मांग से संबंधित ज्ञापन प्रशासन को सौंपा। इस दौरान मुख्य रूप से भारतीय किसान संघ के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य डॉ. विशाल चंद्राकर, प्रदेश अध्यक्ष सुरेश चंद्रवंशी, संगठन मंत्री तुलाराम, कार्यालय मंत्री, छत्तीसगढ़ प्रदेश प्रचार प्रभारी नवीन शेष, भारतीय किसान संघ के जिलाध्यक्ष दानेश्वर सिंह परिहार, जिले के चारों ब्लाक के अध्यक्ष, पदाधिकारी सहि बड़ी संख्या में किसान उपस्थित थे।

लम्बे समय से थी तैयारी

यहां बताना लाजमी होगा कि पानी की इस लड़ाई की तैयारी भारतीय किसान संघ पिछले 4 माह से कर रहा था। लेकिन बीच में कोरोना संक्रमण के कारण तैयारी रूकी रही। वहीं किसानों की समस्या को देखते हुए पिछले माह से पुन: संघ तैयारी में जुट गया। इस दौरान भारतीय किसान संघ के सदस्य लगातार गांवो में जाकर बैठके कर लोगों को एकजुट करते रहे। जिसका परिणाम आज दो माह बाद देखने को मिला।

करीब 12 वर्षो से लड़ी जा रही है पानी की लड़ाई

स्थानीय सरदार पटले मैदान में आयोजित सभा को संबोधित करते हुए भारतीय किसान संघ के पदाधिकारियों ने कहा कि सुतियापाठ नहर निर्माण को आज 12 साल बीत चुके है। वर्ष 2003 में लोहारा ब्लॉक में 7000 हेक्टेयर से अधिक क्षमता वाले सुतियापाठ जलाशय का निर्माण कार्य शुरू किया गया था जो वर्ष 2008 में बन कर तैयार हुआ। किसानों को विश्वास था की बांध बनने से क्षेत्र में किसानों को कृषि और पेयजल दोनों समस्या से निजात मिलेगी। लेकिन आज 12 साल बाद भी लोहारा क्षेत्र के किसानों को नहर का पानी नसीब नहीं हो रहा है बल्कि लोहारा का पानी वर्षों से अन्य जिले में जा रहा है। जिससे क्षेत्र के किसानों में भारी गुस्सा और निराशा है।

संघ पदाधिकारियों ने कहा कि भारतीय किसान संघ सालों से इस विषय को लेकर लड़ता आ रहा है और समय-समय पर विभिन्न मंचो पर इस विषय को शासन के समक्ष रखा जाता रहा है। उन्होंने कहा कि इसी कड़ी में संघ और क्षेत्र के किसानों ने एक बार फिर शांतिपूर्वक ढंग से पदयात्रा कर अपनी मांग शासन प्रशासन के समक्ष रखी है।

वर्षो पुरानी सुतियापाठ नहर विस्तार की मांग को लेकर क्षेत्र के सैकड़ों किसानो ने पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत गुरूवार को भारतीय किसान संघ के बैनर तले विकासखण्ड मुख्यालय स. लोहारा से जिला मुख्यालय कवर्धा तक करीब 22 किलो मीटर की पदयात्रा की और कवर्धा पहुंचकर अपनी मांग से संबंधित ज्ञापन जिला प्रशासन को सौंपा। उल्लेखनीय है कि स. लोहारा क्षेत्र में निर्मित सुतिपाठ जलाशय के नहर विस्तार की मांग क्षेत्र के किसानो द्वारा वर्षो से की जा रही है। इस दौरान तात्कालीक भाजपा सरकार से लेकर मौजूदा कांग्रेस सरकार तक क्षेत्र के किसानो ने कई बार शासन-प्रशासन के समक्ष अर्जी विनती भी लगाई है लेकिन अभी तक किसानो की मांग के अनुरूप सुतियापाठ नहर विस्तार नहीं किया गया है।

Related Articles