News Narmadanchal
MP : ग्रामीण बैंक के मैनेजर और चपरासी रिश्वत लेते गिरफ्तार, लोन पास करने किसान से मांगी घूस

MP : ग्रामीण बैंक के मैनेजर और चपरासी रिश्वत लेते गिरफ्तार, लोन पास करने किसान से मांगी घूस

रायसेन। मध्यप्रदेश क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक के मैनेजर और चपरासी को लोकायुक्त की टीम ने रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों धर दबोचा है। बताया जा रहा है किसान से केसीसी लोन पास करने के एवज में 18 हजार की रिश्वत मांगी गई थी। दोनों के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के अंतर्गत कार्यवाही की जा रही है।

मामला उदयपुरा के पास सिलारी ग्रामीण बैंक का है, जहां मैनेजर अंकित मिश्रा एवं ड्राइवर हेमंत धाकड़ को रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों पकड़ा गया है। किसान छोटेराम लोधी ने भोपाल लोकायुक्त में शिकायत की थी। आवेदक छोटे राम लोधी पिता शुम्मा लाल लोधी निवास ग्राम केतौघान जिला रायसेन ने लोकायुक्त कार्यालय में उपस्थित होकर पुलिस अधीक्षक से शिकायत की थी कि, गाँव में उसकी और भाई खेमचंद की 4-4 एकड़ कुल 8 एकड़ कृषि भूमि हैं। जिसके लिए KCC ऋण के लिए मध्यप्रदेश ग्रामीण बैंक शाखा सिलारी खुर्द रायसेन में आवेदन किया था, जिसमें आवेदक की KCC लिमिट 1,82,000 रुपए और उसके भाई की 1,76,000 रुपए, इस प्रकार कुल 3,58,000 रुपए के ऋण को स्वीकृत करने के एवज में 5 प्रतिशत अर्थात लगभग 18,000 रुपए रिश्वत की मांग शाखा प्रबंधक अंकित मिश्रा ने की है।

शिकायत के सत्यापन पर आवेदक के बताए तथ्यों की पुष्टि होने पर आज गुरुवार को पुलिस अधीक्षक के निर्देशन में लोकायुक्त टीम द्वारा मध्यप्रदेश ग्रामीण बैंक शाखा सिलारि खुर्द रायसेन में कार्यवाही की गई।

शाखा प्रबंधक अंकित मिश्रा ने रिश्वत की राशि 18,000 रुपए अपने ड्राइवर हेमंत धाकड़ को आवेदक छोटेराम से दिलवाया, जिसे लोकायुक्त टीम ने रंगे हाथों पकड़ लिया।

प्रकरण में आरोपी शाखा प्रबंधक अंकित मिश्रा और उसके ड्राइवर हेमंत धाकड़ के विरुध्द भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के अंतर्गत कार्यवाही जारी है। लोकायुक्त की लगभग आधा दर्जन सदस्यीय टीम ने कार्रवाई की है।

केसीसी लोन पास करने के एवज में 18 हजार की रिश्वत मांगी गई थी। पढ़िए पूरी खबर-[#item_full_content]

Related Articles