News Narmadanchal

Rohtak : पुलिस का तनाव दूर करने के लिए होगी काउंसलिंग

पुलिस (फाइल फोटो)पुलिस (फाइल फोटो)

विजय अहलावत : रोहतक

कोरोना संक्रमण के साथ लगातार चल रही ड्यूटी और घरेलू परिस्थितियों के बीच तनाव का शिकार बन रहे पुलिस कर्मियों की काउंसिलंग की जाएगी। एसपी राहुल शर्मा की तरफ से दिशा निर्देश जारी किए गए हैं। जिनके तहत कर्मचारी अपनी समस्याएं वरिष्ठ अधिकारियों को बता सकेंगे। काउंसलिंग के दौरान उनकी हर सम्भव मदद भी की जाएगी।

मार्च 2020 में कोराना संक्रमण फैलने के बाद लॉकडाउन शुरू किया गया था। जिसकेे चलते पुलिस ने दिन रात सड़कों पर और बाजारों में जाकर नाकाबंदी की। पुलिस ने न केवल लोगों को समझाया बल्कि नहीं मानने वाले लोगों के चालान भी किए। इस दौरान पुलिस को धरने, प्रदर्शन और अपराध नियंत्रण के अलावा अधिक काम करना पड़ा। जिसकी वजह से कर्मचारियों के बीमार होने और तनाव की बात भी सामने आई। इन हालात में एसपी राहुल शर्मा ने सभी कर्मचारियों को दिशा निर्देश जारी किए कि वह अपनी परेशानी वरिष्ठ अधिकारियों को बताएं। इस दौरान कर्मचारियों की काउंसलिंग की जाएगी। उनके स्वास्थ्य की जांच के लिए भी पुलिस लाइन अस्तपाल के अधिकारियों को आदेश दिए गए हैं।  

शुरू नहीं हो पाए योग शिविर

प्रदेश में विगत वर्ष अधिकारियों द्वारा पुलिस लाइन में मेडिटेशन और योग शिविर शुरू किए गए थे। लेकिन इस वर्ष यह लम्बे समय तक जारी नहीं रखे जा सके। अब संक्रमण बढ़ गया है तो अधिकारी बैठक और ऐसे कार्यक्रमों से परहेज कर रहे हैं। अभी निकट समय में योग शिविर दोबारा शुुरू होने की उम्मीद नहीं है। 

जिले में दो हजार कर्मचारी

जिला में करीब 2000 पुलिस कर्मचारी हैं। एसपी समेत सात डीएसपी कार्यरत हैं। जबकि महिला थाना समेत 15 पुलिस स्टेशन हैं। जहां सिपाही से लेकर इंस्पेक्टर स्तर के अधिकारी तैनात हैं। थानों की कमान इंस्पेक्टर, एसआई के पास है। इसके अलावा करीब 20 पुलिस चौकी हैं जहां सिपाही से लेकर एएएसआई और एसआई स्तर के अधिकारी कार्यरत हैं। करीब 40 पीसीआर और राइडर पर कर्मचारी दिन रात गश्त करते हैं। इसके अलावा यातायात पुलिस की तीन विंग, सीआईए की तीन विंग अलग हैं। 

हरसंभव प्रयास करेंगे 

कोराना के चलते योग शिविर या बड़े स्तर पर कार्यक्रमों का आयोजन करवाना सम्भव नहीं है। एसपी की तरफ से जवानों को स्पष्ट निर्देश दिए गए हैं कि वे अपनी परेशानी अधिकारियों को बताएं। उनकी काउंसलिंग की जाएगी। अगर किसी बात का तनाव है तो उसे दूर करने के लिए विभाग हर सम्भव कदम उठा रहा है। -गोरखपाल राणा, डीएसपी, हेडक्वार्टर 

एसपी ने की थी हवलदार सतेंद्र मलिक की काउंसलिंग

सोमवार की रात हवलदार ने लाइसेंसी रिवाल्वर से गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी। जांच में तनाव की बात सामने आई। हवलदार कुछ माह से परेशान चल रहा था। इस वजह से पुलिस द्वारा लगातार उनकी काउंसलिंग की जा रही थी। खुद एसपी राहुल शर्मा ने हवलदार की काउंसलिंग की थी। उन्होंने उसे हालात से लड़ने और आत्मविश्वास के साथ आगे बढ़ने की सलाह दी थी। इसके अलावा डीएसपी गोरखपाल राणा ने भी हवलदार को कई बार अपने कार्यालय में बुलाकर काउसंलिंग की थी। विभाग द्वारा ऐसे अधिकािरियों की सूची बनाई जा रही है जिनकी ड्यूटी सख्त है और उन पर ज्यादा दबाव रहता है। इनमें इंस्पेक्टर, एसआई स्तर के अधिकारी शामिल हैं। इसके अलावा स्पेशल सैल, थाना, चौकी में कार्यरत सिपाही से लेकर एसएचओ स्तर के अधिकारियों की काउंसलिंग की जाएगी। 

एसपी राहुल शर्मा ने सभी कर्मचारियों को दिशा निर्देश जारी किए कि वह अपनी परेशानी वरिष्ठ अधिकारियों को बताएं। इस दौरान कर्मचारियों की काउंसलिंग की जाएगी। उनके स्वास्थ्य की जांच के लिए भी पुलिस लाइन अस्तपाल के अधिकारियों को आदेश दिए गए हैं।

Related Articles