News Narmadanchal

Video: लोक गीतों के साथ मढई मेला का आयोजनVideo: लोक गीतों के साथ मढई मेला का आयोजन

बनखेड़ी। दीपावली के पश्चात प्रतिपदा से पूर्णिमा तक अनेक ग्रामों में मढई मेला का आयोजन वर्षों से होता चला आ रहा है।मढई मेला (Madhai Mela) के दिवस गांगो माता की पूजा की जाती है इस वर्ष भी प्रतिवर्ष अनुसार ग्राम सुरेला रंधीर में पंचमी के दिवस मढई मेला का आयोजन हुआ, जिसमें बाहर से अनेक दुकानें आई, जिसमें छोटे छोटे बच्चों ने खिलौनों की जमकर खरीदी की उसके साथ साथ ग्रामीणों द्वारा पूर्व से लोक गीतों के साथ नृत्य का आयोजन भी किया जाता है। हर्षोल्लास के साथ लोकगीतों में भाग लिया। कार्यक्रम में मुख्य रूप से पुखराज सिंह जूदेव अनिरुद्ध (संजू) शुक्ला, महेश शुक्ला, राजेश दुबे, दीपक दुबे, उमाशंकर शुक्ला, महेंद्र शुक्ला, संतोष ढिमोल, कपिल शुक्ला राधेश्याम नाथ अभिषेक बोहरे सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित रहे।

lok geet

बनखेड़ी। दीपावली के पश्चात प्रतिपदा से पूर्णिमा तक अनेक ग्रामों में मढई मेला का आयोजन वर्षों से होता चला आ रहा है।मढई मेला (Madhai Mela) के दिवस गांगो माता की पूजा की जाती है इस वर्ष भी प्रतिवर्ष अनुसार ग्राम सुरेला रंधीर में पंचमी के दिवस मढई मेला का आयोजन हुआ, जिसमें बाहर से अनेक दुकानें आई, जिसमें छोटे छोटे बच्चों ने खिलौनों की जमकर खरीदी की उसके साथ साथ ग्रामीणों द्वारा पूर्व से लोक गीतों के साथ नृत्य का आयोजन भी किया जाता है। हर्षोल्लास के साथ लोकगीतों में भाग लिया। कार्यक्रम में मुख्य रूप से पुखराज सिंह जूदेव अनिरुद्ध (संजू) शुक्ला, महेश शुक्ला, राजेश दुबे, दीपक दुबे, उमाशंकर शुक्ला, महेंद्र शुक्ला, संतोष ढिमोल, कपिल शुक्ला राधेश्याम नाथ अभिषेक बोहरे सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित रहे।

lok geet

बनखेड़ी। दीपावली के पश्चात प्रतिपदा से पूर्णिमा तक अनेक ग्रामों में मढई मेला का आयोजन वर्षों से होता चला आ रहा है।मढई मेला (Madhai Mela) के दिवस गांगो माता की पूजा की जाती है इस वर्ष भी प्रतिवर्ष अनुसार ग्राम सुरेला रंधीर में पंचमी के दिवस मढई मेला का आयोजन हुआ, जिसमें बाहर से अनेक

Related Articles